बेमेतरा

बेमेतरा कलेक्टर ने संवेदनशील ग्राम पंचायत गाड़ामोर, परसबोड़, मोहभट्ठा और कोदवा का निरीक्षण किया

बेमेतरा कलेक्टर ने संवेदनशील ग्राम पंचायत गाड़ामोर, परसबोड़, मोहभट्ठा और कोदवा का निरीक्षण किया

TNIS
बेमेतरा : बेमेतरा कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री महादेव कावरे ने कल बुधवार को लोकसभा 2019 के तहत जिले में कानून एवं सुरक्षा, व्यवस्था को विशेष ध्यान में रखते हुए नवागढ़ विकासखण्ड के संवेदनशील ग्राम पंचायत गाड़ामोर और साजा विकासखण्ड के ग्राम पंचायत परसबोड़ बेरला विकासखण्ड के कोदवा और मोहभट्ठा का निरीक्षण किया। बता दें कि नवागढ़ विकासखण्ड का ग्राम पंचायत गाड़ामोर मुगेंली जिले के सीमावर्ती आखरी गांव है।

इस गांव के बाद मुंगेली जिले की सीमा शुरू हो जाती है। कलेक्टर ने ग्रामीणों से वार्तालाप शैली में बताया कि आदर्श आचार सहिंता लागू होते ही सम्पूर्ण जिले में कानून एवं सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए धारा 144 लागू की गई है। कानून एवं सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जिले के सभी सीमावर्ती मुख्य मार्गाें पर वाहन, माल वाहक और गाड़ियों की विशेष जाॅच अभियान शुरू किया जाएगा। जिले में 9 उड़नदस्ता और 9 स्थायी चेक पोस्ट बनाए जाएगें। उन्होंने ग्रामीणों को जागरूक करते हुए कहा कि जिले में कानुन एवं सुरक्षा व्यवस्था बनाने में इस कार्य में लगे टीम के सदस्यों को सहयोग प्रदान करें। कलेक्टर ने ग्रामीणों से निर्भय और बिना डर, भय से मुक्त होकर लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए मतदान करने की अपील की है।

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री कावरे ने ग्रामीणों को बताया कि लोकसभा निर्वाचन के दौरान मतदाताओं को अब सिर्फ मतदाता पर्ची के आधार पर मतदान करने की अनुमति नहीं होगी। मतदाता को मतदान के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली मतदाता पर्ची (वोटर स्लीप) के साथ अपने पहचान का एक और दस्तावेज साथ रखना होगा। भारत निर्वाचन आयोग ने इस संबंध में अपने निर्देश में कहा है कि मतदान के लिए मतदाता परिचय पत्र के अलावा 11 अन्य दस्तावेज मान्य होंगे। आयोग ने कहा है कि मतदाता पर्ची में फोटो के अलावा अन्य सुरक्षा मानक की कमी होती है, ऐसे में इसके दुरूपयोग की शिकायतें मिलती रहीं हैं। आयोग ने स्पष्ट किया है कि सिर्फ मतदाता पर्ची के आधार पर मतदाता को मतदान का अधिकार नहीं होगा।

मतदाताओं की सहूलियत के लिए मतदाता परिचय पत्र (ईपिक) के अतिरिक्त 11 अन्य दस्तावेज जिसमें आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, केन्द्र और राज्य शासन तथा शासकीय संस्थानों द्वारा जारी फोटो पहचान पत्र, बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस द्वारा जारी फोटोयुक्त पासबुक, पैन कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, स्वास्थ्य बीमा कार्ड, फोटोयुक्त पेंशन दस्तावेज, सांसद, विधायकों को जारी फोटो पहचान पत्र तथा रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया द्वारा जारी स्मार्ट कार्ड शामिल है को पहचान पत्र के तौर पर मान्य किया है। इसके अतिरिक्त अनिवासी भारतीय मतदान केन्द्र में पहचान पत्र के तौर पर सिर्फ अपना पासपोर्ट ही प्रस्तुत कर सकेंगे। इसके अतिरिक्त अन्य कोई भी दस्तावेज अनिवासी भारतीयों के पहचान पत्र के तौर पर मान्य नहीं होंगे।

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email