विशेष रिपोर्ट

RTI में खुलासा- स्टेट बैंक के साथ अप्रैल-दिसंबर 2018 के दौरान 7951 करोड़ की बैंकिंग धोखाधड़ी हुई !

RTI में खुलासा- स्टेट बैंक के साथ अप्रैल-दिसंबर 2018 के दौरान 7951 करोड़ की बैंकिंग धोखाधड़ी हुई !

मीडिया रिपोर्टो से 

नई दिल्लीः सूचना के अधिकार (आरटीआई) कानून के तहत मिली जानकारी के मुताबिक देश के सबसे बड़े कर्जदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में मौजूदा वित्तीय वर्ष के शुरूआती नौ महीने (अप्रैल-दिसंबर 2018) के दौरान कुल 7951.29 करोड़ रुपये की बैंकिंग धोखाधड़ी के 1885 मामले सामने आये.

मध्यप्रदेश के नीमच निवासी आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने बुधवार को बताया कि सूचना के अधिकार के तहत एसबीआई के एक उच्च अधिकारी ने उन्हें यह जानकारी दी है. उन्होंने अपनी आरटीआई अर्जी पर एसबीआई के 25 फरवरी को भेजे जवाब के हवाले से बताया कि इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून 2018) में बैंक में कुल 723.06 करोड़ रुपये की बैंकिंग धोखाधड़ी के 669 मामले सामने आये. दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर 2018) में कुल 4832.42 करोड़ रुपये की बैंकिंग धोखाधड़ी से जुड़े 660 मामले सामने आये.


आरटीआई से मिली जानकारी बताती है कि मौजूदा वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर 2018) के दौरान एसबीआई में 2395.81 करोड़ रुपये की बैंकिंग धोखाधड़ी के 556 मामले सामने आये. वैसे गौड़ ने अपनी आरटीआई अर्जी में एसबीआई से खास तौर पर यह भी जानना चाहा था कि अप्रैल-दिसंबर 2018 में उसके कितने ग्राहक बैंकिंग धोखाधड़ी के शिकार हुए और इस वजह से उन्हें कितनी रकम की चपत लगी. हालांकि, सार्वजनिक क्षेत्र के दिग्गज बैंक ने उक्त प्रश्न पर आरटीआई अधिनियम 2005 की धारा सात (नौ) का हवाला देते हुए कहा कि कानूनी प्रावधानों के मुताबिक उसे इस विषय में मांगी गयी सूचना के खुलासे से छूट प्राप्त है.

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email