टॉप स्टोरी

वाराणसी फ्लाईओवर हादसा : रेस्क्यू कार्य पूरा, 15 मृतकों की हुई पहचान

वाराणसी फ्लाईओवर हादसा : रेस्क्यू कार्य पूरा, 15 मृतकों की हुई पहचान

एजेंसी 

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के सिगरा क्षेत्र में कैंट रेलवे स्टेशन के निकट निर्माणाधीन फ्लाईओवर हादसे में बचाव एवं राहत का काम पूरा हो चुका है। एनडीआरएफ के डीआईजी आलोक कुमार सिंह ने बताया कि बचाव कार्य पूरा हो चुका है। बीम को क्रेन की मदद से हटाया जा चुका है। मलबे में दबे वाहनो को दोपहर तक हटाया जाएगा। भीड़भाड़ वाले इस क्षेत्र में निर्माणधीन पुल के दोनों ओर दीवार खडी की जाएगी। निर्माण कार्य फिलहाल स्थगित रहेगा। उन्होने कहा कि हादसे में 16 लोगों की मौत हुई है जबकि 8 लोग गंभीर रूप से घायल हैं। बचाव दल ने मलबे से 3 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला है। बताया जा रहा है कि मृतकों में 15 की शिनाख्त कर लिस्ट जारी कर दी गई है।

PunjabKesari

आधिकारिक तौर पर मृतकों की संख्या पर असमंजस बना हुआ है। मुख्य सचिव (सूचना) अवनीश अवस्थी ने मंगलवार रात 18 लोगों के मरने की पुष्टि की थी जबकि एनडीआरएफ के पुलिस उपमहानिरीक्षक ने हादसे में 16 लोगों की मौत की बात कही है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक हादसे में घायल 2 लोगों ने देर रात उपचार के दौरान दम तोड़ दिया जिससे घटना में मरने वालों की तादाद बढकर 20 हो गई है। हादसे में घायल लोगों को बीएचयू ट्रामा सेंटर समेत अन्य अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। घायलों में 5 की हालत बेहद नाजुक बनी हुई है।

उत्तर प्रदेश सरकार ने मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख और घायलों को 2-2 लाख रुपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मध्य रात्रि को घटनास्थल का दौरा किया और अधिकारियों से हादसे के कारणों की पड़ताल की। उन्होंने अस्पतालों में भर्ती घायलों का हालचाल जाना और पीडितों के परिजनो का सरकार की ओर से हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया।

फ्लाईओवर के निर्माण में लापरवाही बरतने के आरोप में प्रथम दृष्टया दोषी मानते हुए उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सेतु निर्माण निगम के मुख्य परियोजना प्रबंधक एचसी तिवारी, परियोजना प्रबंधक के एस सूदन, सहायक अभियंता राजेश सिंह व अवर अभियंता लाल चंद को निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही इस मामले की जांच के लिए तकनीकी विशेषज्ञों की 3 सदस्यीय टीम गठित की गई है। कमेटी में कृषि उत्पादन आयुक्त आर पी सिंह, सिंचाई विभाग के मुख्य अभियंता भूपेन्द्र शर्मा और जल निगम के प्रबंध निदेशक राजेश मित्तल शामिल है।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email