बिलासपुर

राम मंदिर निर्माण जमीन घोटाले: सिटी माल स्थित दक्षिण मुखी हनुमान मंदिर पहुचकर प्रतिमा के सामने पेश की याचिका

राम मंदिर निर्माण जमीन घोटाले: सिटी माल स्थित दक्षिण मुखी हनुमान मंदिर पहुचकर प्रतिमा के सामने पेश की याचिका

GCN

बिलासपुर- सिटी माल स्थित दक्षिण मुखी हनुमान मंदिर पहुचकर प्रतिमा के सामने पेश की याचिका, राम मंदिर निर्माण जमीन घोटाले की जांच कर न्याय की मांग की और छद्म बीजेपी, आरएसएस, और विश्वहिंदू परिषद सहित मंदिर निर्माण में लगे लोगो को सत्ता से अपदस्त कर दंडित करने की प्रार्थना की_ 

अयोध्या में निर्माणधीन रामंदिर जमीन घोटाले की गूंज के बीच शुक्रवार को कांग्रेस के प्रमुख पदाधिकारियों ने हनुमान मंदिर पहुंचकर उनकी प्रतिमा के सामने याचिका पेश की और घोटाले में संलिप्त छद्म रामभक्तों पर कार्रवाई की मांग की है। याचिका में चार प्रमुख पदाधिकारियों ने याचिकाकर्ता के रूप में हस्ताक्षर भी किए हैं। याचिकाकर्ताओं की ओर से विधि विभाग के प्रदेशाध्यक्ष व हाई कोर्ट वकील संदीप दुबे ने याचिका पेश की है।

No description available.

प्रदेश में यह अपनी तरह का पहला और रोचक मामला सामने आया हैं। शुक्रवार को वकील संदीप दुबे द्वारा तैयार की गई याचिका के साथ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव,पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के अध्यक्ष कृष्णकुमार यादव,शहर अध्यक्ष प्रमोद नायक व जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी मुंगेली नाका स्थित दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर पहुंचे। पूजा अर्चना के बाद हनुमानजी की प्रतिमा के सामने याचिका की कापी पेश की।

याचिका के साथ विधि विभाग के प्रदेशाध्यक्ष संदीप दुबे के लेटर हेड मंे आवेदन भी पेश किया गया। राममंदिर के नाम से जमीन घोटाला करने वाले छद्म रामभक्त भाजपा,आरएसएस व विहिप के पदाधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

क्या है याचिका में 
प्रथम याचिकाकर्ता के रूप में विधि विभाग के प्रदेशाध्यक्ष संदीप दुबे ने याचिका पेश की। इसमें लिखा है कि जिस प्रकार भाजपा,विहिप व आरएसएस व अनुषांगिक संगठनों ने भगवान श्रीराम के नाम से सत्ता में काबिज हुए। और वर्षों तक मंदिर निर्माण के नाम पर लोगों की भावना से खेलते रहे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ।

राम मंदिर ट्रस्ट के नाम पर दो करोड़ की जमीन को 27 करोड़ में खरीदा है। इन लोगों ने भगवान श्रीराम सहित भक्तों को धोखा दिया है। इस धोखे के लिए आप अपने न्यायालय में प्रकरण चलाकर न्याय करंे। सत्ता से बेदखल कर असली राम भक्तों को राम मंदिर निर्माण कार्य करने की अनुमति प्रदान करें।

याचिका को पढ़कर सुनाया 
हनुमानजी की प्रतिमा के सामने याचिका पेश करने से पहले संदीप दुबे ने याचिका को पढ़कर सुनाया। इसके बाद उनके चरणों में रखकर मांग की। इस दौरान याचिका में लगने वाली जस्र्री 120 स्र्पये का कोर्ट फीस भी जमा किया गया है। हनुमानजी के पते में याचिकाकर्ताओं ने देवलोक ब्रम्हांड लिखा है। 

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email