बेमेतरा

बेमेतरा जिले में 66 गौठान निर्माण के लिए 12 करोड़ 68 लाख रूपए स्वीकृत

बेमेतरा जिले में 66 गौठान निर्माण के लिए 12 करोड़ 68 लाख रूपए स्वीकृत

TNIS

बेमेतरा : प्रदेश सरकार की प्लैगशिप योजना नरवा, गरूवा, घुरूवा अउ बाड़ी, के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए जिले में विशेष कदम उठाए जा रहें है। बेमेतरा जिले के 04 विकासखण्डों में 66 गौठान निर्माण के लिए 12 करोड़ 68 लाख रूपए स्वीकृत किये गये है। कलेक्टर महादेव कावरे ने बताया कि इनमें बेमेतरा विकासखण्ड के 19 कार्याे के लिए 358.89 लाख रूपए नवागढ़ ब्लाक में 15 कार्य के लिए 289.55 लााख रूपए साजा के 19 कार्य के लिए 369.62 रूपए एवं बेरला ब्लाक के 13 कार्याें के लिए 249.66 लाख रूपए मंजूर किये गये है। इसी तरह बेमेतरा जिले के जिया नाला, घोघरा नाला, खोवा नाला, बेरला नाला, करूवा/गोरेघाट नाला, में डाइट कम बोल्डर निर्माण , चेक डेम निर्माण, 47 कार्याें के लिए 205.21 लााख रूपए स्वीकृत किये गये। नाडेप टेंक निर्माण बेमेतरा में 297 कार्याे के लिए 8.24 लाख रूपए, नवागढ़ 415 कार्याे के लिए 7.71 लाख रूपए, साजा, 135 कार्याें के लिए 18.62 लाख रूपए एवं बेरला 1167 कार्याे के लिए 18.62 लाख रूपए शामिल है। कलेक्टर ने बताया कि जिले में घुरूवा/नाडेप के  कुल 1513 कार्य स्वीकृत किये गये है। बाड़ी विकास के अंतर्गत 3077 संर्वेक्षण कर लिया गया है। इसमें मुनगा, पपीता, सीताफल, अमरूद, बरबट्टी, भिण्डी के पौधे लगाए जाएगें।

कलेक्टर ने बताया कि चारागाह निर्माण के जिले में कुल 48 कार्य स्वीकृत किये गये है। जिसमें प्रगतिरत कार्य 22 है। जिसमें जुताई का कार्य प्रगति पर हैं। आदर्श गौठान में जुताई कार्य पूर्ण कर ग्राम बटार एवं ग्राम बिलाई में घास मक्का लगाए जा रहा है। सभी चारागाह स्थान पर चारा लगाने हेतु पशुपालन विभाग द्वारा वर्सीम, मक्का जौ, एवं निपियर तैयार किया जा रहा है। 2.50 लाख नेपियर के पौधे आर्डर किया जा चुका है। चारागाह निर्माण हेतु सी.पी.टी. डबरी, वृक्षारोपण, जुताई का कार्य स्वीकृत किया गया है एवं बोर खनन हेतु पीएचई विभाग को निर्देशित किया जा चुका है। सभी गावों में एस.एच.जी महिलाओं एवं ग्राम गौठान समिति द्वारा रात्रि चौपाल एवं दिन में रैली निकालकर गांव वालों को जागरूक किया जा रहा है।  यादव समुदाय के घर महिलाओं को एस.एच.जी में जोड़ने का कार्य किया जा रहा है। जिससे उनकों और लाभ दिया जा सके।

      गौठान तैयार होने से मवेशियों को गर्मी के दिनों में छाया मिलेगी। गौठान को डे-केयर के रूप में विकसित किया जाएगा। बेमेतरा जिले के मॉडल गौठान के रूप में नवागढ़ ब्लॉक के नारायणपुर, बेमेतरा के बटार, साजा ब्लॉक के मौहाभाठा, एवं बेरला के ग्राम सांकरा शामिल है। जिले के प्रत्येक गोवों में गोठान निर्माण कराया जाएगा वहां चारा, पानी की व्यवस्था रहेगी। गोठान में छाया की व्यवस्था, बोर खनन, सोलर पंप, पानी टंकी (टांका) नाडेब खाद (घुरूवा) फेन्सिंग, पानी निकासी के लिए नाली का निमार्ण कराया जाएगा। सिंचाई विभाग द्वारा इसका संरक्षण किया जाएगा।  कलेक्टर महादेव कावरे ने किसानों को केचुंवा खाद तैयार करने के लिए वर्मी बेड देने के निर्देेश अधिकारियों को दिये।      
 कलेक्टर ने बताया कि गावों में गौठान से जोड़कर रोजगार मूलक गतिविधियों का संचालन किया जाएगा। इस कार्य में महिला समूहों को जोड़ा जा रहा है ताकि इस माध्यम से वे अपनी अजीविका चला सके और आर्थिक रूप से स्वावलंबी बन सके। गोठान के गोबर गोमूत्र से खाद तैयार कर वे उसे आय का जरिया बना सकते है। इसके अलावा दुग्ध उत्पाद से भी उनकी आमदनी बढ़ेगी। कलेक्टर ने बताया कि गोठान के आस-पास बांस, फलदार एवं छायादार वृक्ष लगाए जाएगें। यह भी उनके रोजगार का साधन बन सकता है।

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email