रायगढ़

रायगढ़ जिले के ग्राम छाल में बोले मुख्यमंत्री - किसानों और मजदूरों की तकलीफों को दूर करने निकाली विकास यात्रा

रायगढ़ जिले के ग्राम छाल में बोले मुख्यमंत्री - किसानों और मजदूरों की तकलीफों को दूर करने निकाली विकास यात्रा

रायगढ़ : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि किसानों और मजदूरों की तकलीफों को दूर करने के लिए मैं विकास यात्रा में निकला हूं। डॉ. सिंह ने कहा कि तेज गरमी और लू की परवाह किए बगैर जब राज्य के किसान-मजदूर खेतों में मेहनत करते हैं, खंती कोड़ते हैं, तेन्दूपत्ता तोड़ते हैं, तो उन्हें ऐसा करते देखकर मुझे भी उनके लिए और ज्यादा काम करने की प्रेरणा मिलती है, इसलिए नवतपा की तेज गरमी का परवाह किए बगैर उनसे मुलाकात करने और योजनाओं का फायदा दिलाने के लिए मैं विकास यात्रा में निकला हूं। डॉ. सिंह आज रायगढ़ जिले के ग्राम छाल (विकासखण्ड-धरमजयगढ़) में आयोजित विशाल जनसभा को सम्बोधित करते कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने यहां 64 करोड़ रुपए की लागत के 78 निर्माण कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। उन्होंने राज्य और केन्द्र सरकार की हितग्राही मूलक योजनाओं के अंतर्गत लगभग 13 हजार हितग्राहियों को अनुदान सहायता, सामग्री और आबादी पट्टे वितरित किए। समारोह की अध्यक्षता केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय ने की। इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत, औषधीय पादप बोर्ड के अध्यक्ष श्री रामप्रताप सिंह, गृह निर्माण मण्डल के अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र सवन्नी, पूर्व विधायक डॉ. जवाहर नायक और श्री ओमप्रकाश राठिया विशेष रूप से उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि किसानों और तेन्दूपत्ता संग्राहकों को उनकी मेहनत का बोनस बांटने के लिए भी यह विकास यात्रा निकाली गई है। उन्होंने बताया कि रायगढ़ जिले के 96 हजार किसानों को 96 करोड़ रुपए से ज्यादा का बोनस आज उनके खाते में जमा कराया गया है। कम्प्यूटर में क्लीक करते ही उनके खाते में यह राशि अंतरित हो गई। डॉ. सिंह ने कहा कि विकास यात्रा के दौरान पूरे राज्य में 1700 करोड़ रुपए की राशि किसानों को धान बोनस के रूप में बांटी जा रही है। इसी प्रकार 700 करोड़ रुपए का तेन्दूपत्ता बोनस भी संग्राहकों को दिया जा रहा है। साढ़े 12 लाख से ज्यादा परिवारों को आबादी पट्टे वितरित किए जा रहे हैं। डॉ. सिंह ने कहा कि विकास यात्रा में लोगों का अपूर्व उत्साह और समर्थन मिल रहा है। तीर्थयात्रा के बराबर लोगों का आशीर्वाद विकास यात्रा में मिल रहा है।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने सभा में उपस्थित लोगों से पूछा कि उन्हें एक रूपए किलो में चावल और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत स्मार्ट कार्ड योजना का लाभ मिला है कि नहीं। उपस्थित अधिकांश लोगों ने दोनो हाथ उठाकर समवेत स्वर से दोनांे योजनाओं का लाभ मिलने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि सौभाग्य योजना के कारण पूरे रायगढ़ जिले में अगले चार महीनों में अंधकार से मुक्ति मिलेगी। इस दौरान कोई भी घर और पारा-टोला ऐसा नहीं होगा, जहां बिजली नहीं होगी। डॉ. सिंह ने कहा कि मकान बनाने के लिए पहले 25-30 हजार रूपए की रकम मिलती थी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने इसे बढ़ाकर डेढ़ लाख रुपए कर दिए हैं। वर्ष 2022 तक सभी आवासहीनों का उनके स्वयं के मकान का सपना साकार होगा।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा हाल में घोषित आयुष्मान भारत योजना की जानकारी देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में इस योजना में 37 लाख गरीब परिवारों को लाभ मिलेगा। उन्होंने संचार क्रांति (स्काई) योजना के अंतर्गत भी अगले चार महीनों में 50 लाख लोगों को मोबाईल स्मार्ट फोन बांटने की जानकारी दी। डॉ. सिंह ने आज फिर बताया कि किसानों को अब फिर से सिंचाई पम्प स्थापित करने के लिए एक लाख रुपए का अनुदान मिलेगा। फ्लेट रेट योजना का फायदा एक से ज्यादा पम्प होने पर भी मिलेगा। यदि 7500 यूनिट से ज्यादा की खपत होती है तो ज्यादा खपत का भी फ्लेट रेट योजना के अंतर्गत भुगतान किया जा सकता है।

केन्द्रीय इस्पात मंत्री श्री विष्णुदेव साय ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि नवतपा की भीषण गर्मी में भी मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जनता के बीच पहुंचकर अपने काम-काज का हिसाब दे रहे हैं, यह एक बड़ा साहसभरा कदम है। उन्होंने कहा कि डॉ. सिंह के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ का तेजी से विकास हो रहा है। पिछड़ेपन के अभिशाप से राज्य को मुक्ति मिल गई है। उन्होंने कहा कि राज्य में संचालित कई योजनाओं में तो पूरे देश में पहला और दूसरा स्थान हासिल किया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ पूरे देश में पहला राज्य है जहां पर एपीएल श्रेणी के लोगों को भी स्मार्ट कार्ड देकर स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराया गया है।

छत्तीसगढ़ में अब किसी को भी भूखे पेट नहीं सोता है। उन्होंने कहा कि दूर-दराज के इलाकों मंे भी सोलर इनर्जी के जरिए बिजली सुविधा पहुंचाई गई है और लगभग पांच लाख रुपए की लागत का सोलर सिंचाई पंप किसानों को काफी कम मूल्य पर दिया जा रहा है। कलेक्टर श्रीमती शम्मी आबिदी ने स्वागत भाषण देते हुए विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत जिले की प्रगति और उपलब्धियों की जानकारी दी। इस अवसर पर अनेक जनप्रतिनिधि, छाल और आस-पास के क्षेत्र के ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email