दुर्ग

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गड़करी ने दी 4 हजार 251 करोड़ रूपए के निर्माण कार्यों की सौगात

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गड़करी ने दी 4 हजार 251 करोड़ रूपए के निर्माण कार्यों की सौगात

भिलाई : केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गड़करी एवं मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित अन्य मंत्रीगणों की मौजूदगी में 10 सितम्बर को  रायपुर-दुर्ग बायपास, रायपुर-दुर्ग के मध्य चार फ्लाई ओव्हर एवं रायपुर शहर के टाटीबंध जंक्शन फ्लाई ओव्हर निर्माण कार्य का भूमिपूजन किया गया। साथ ही साथ आरंग से सरायपाली मार्ग एवं रायपुर-दुर्ग मार्ग का चौड़ीकरण का लोकार्पण भी किया गया। दुर्ग जिले के चरौदा नगर के दशहरा मैदान में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गड़करी ने कहा कि केंद्र सरकार ने पिछले 4 बरसों में छत्तीसगढ़ सरकार को सड़क निर्माण कार्य के लिए लगभग 35 हजार करोड़ दिए हैं। अब सड़क निर्माण के लिए और 40 हजार करोड़ दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि सरकार के पास पैसे की कमी नहीं है। काम गुणवत्ता पूर्ण होने चाहिए।

हमने काम के लिए ऐसी प्रणाली विकसित की है कि ठेकेदारों के एक रुपया भी बकाया नहीं है। श्री गड़करी ने कहा कि वर्ष 2000 में छत्तीसगढ़ सहित 3 नए राज्य पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने बनाये। इनमें छत्तीसगढ़ तेजी से विकास कर रहा है। कृषि विकास की दर यहां 6 प्रतिशत से भी ज्यादा है। उन्होंने कहा कि कृषि के अंतर्गत हमें केवल चांवल, दाल, शक्कर और गेहूं तक ही सीमित नहीं रहना है। देश में इनका उत्पादन सरप्लस हो गया है। खेती किसानी में हमें नई तकनीकी को शामिल करना होगा। मंत्री श्री गड़करी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में बायोफ्यूल विकास की काफी संभावनाएं हैं। यहां के जंगलों में रतनजोत के अलावा करंज, महुआ, नीम, कुसुम आदि के पौधे बड़ी मात्रा में उपलब्ध हैं, जो बायो डीजल के बड़े स्रोत हैं। इनसे तेल निकालने के लिए स्थानीय स्तर पर उद्योग लगेंगे, जिससे वनवासी परिवारों को लाभ मिलेगा। छत्तीसगढ़ पूरे देश के लिए बायोफ्यूल का हब बन सकता है। उन्होंने बताया कि नागपुर में लगभग एक हजार ट्रेक्टर बायोफ्यूल से चल रहे हैं। आवश्यकता इनमंे और अनुसंधान करने की है। श्री गड़करी ने कहा कि हमने अभी पेट्रोल में एथेनॉल मिलाकर वाहन चलाने का सफलतापूर्वक प्रयोग किया है। इसे और बढ़ावा दिया जाएगा। छत्तीसगढ़ में धान की खेती के पैरा का उपयोग भी इथेनॉल निर्माण में किया जा सकता है। इससे किसानों को फायदा होने के साथ ही पेट्रोल के दाम भी कम होंगे।

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में सड़कों के जाल बिछाने में श्री गड़करी जी का महत्वपूर्ण योगदान है। वे पहले ऐसे मंत्री है जो हमारी जरूरत को समझते हुए स्वयं होकर कार्यो की मंजूरी प्रदान कर देते है। कोई भी प्रस्ताव के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ता है। सड़क परिवहन मामलों के वे काफी जानकार है तथा यातायात को सुगम और गतिशील बनाने के लिए नए-नए उपाय करते रहते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि देश की आजादी से लेकर वर्ष 2014 तक राज्य में जितने सड़कों का निर्माण हुआ उससे 10 गुना ज्यादा सड़को का निर्माण पिछले 4 सालों में हुआ है।

डॉ सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ में पहले केवल 3-4 मीटर चौड़ाई की सड़क बनती थी। यहां तो कई राष्ट्रीय राजमार्ग मिट्टी के भी बने थे जबकि देश मे कहीं ऐसा नहीं था। यह परम्परा अब बदली है। रोड अब 10 मीटर चौड़ी बन रही है। जरूरत के हिसाब से सड़क के ऊपर सड़क बनाया जा रहा है। सड़क निर्माण के क्षेत्र में श्री गड़करी ने काफी काम किये है। इतिहास में सड़क निर्माण के लिए प्रसिद्ध बादशाह शेरशाह सूरी के बाद श्री गड़करी ने ज्यादा ध्यान दिया है। उन्होंने गाँव तक सड़क पहुचाने की परिकल्पना को पूरा किया है। डॉ. सिंह ने कहा कि सड़कों के लिए छत्तीसगढ़ ने काफी कष्ट उठाया है। बिलासपुर-रायपुर सड़क निर्माण कार्य को मंजूरी प्रदान करने में काफी विलम्ब हुआ। अब जाकर यह कार्य पूरा हुआ और चमचमाती कॉन्क्रीट की सड़क बन रही है।
इस अवसर पर प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत ने कहा कि भारत माला परियोजना के तहत राज्य में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि चार साल पहले एक सड़क स्वीकृत कराने के लिए अनेकों बार दिल्ली जाना होता था। राजधानी रायपुर के साथ-साथ दूरस्थ अंचल सुकमा, कोण्डागांव, कोरिया, जशपुर जैसे पिछड़े हुए क्षेत्रों में भी सड़कों का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने छत्तीसगढ़ के लिए अनेक राष्ट्रीय राजमार्ग की स्वीकृति दिए जाने पर मंत्री श्री गड़करी का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक श्री सांवला राम डाहरे ने कहा कि अहिवारा विधानसभा क्षेत्र में अनेक ऐतिहासिक विकास कार्य किए गए हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की कुशल नेतृत्व से प्रदेश के साथ-साथ क्षेत्र के विकास के लिए उनका अभिवादन किया। 

इस अवसर पर राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री श्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू, लोकसभा सांसद श्री अभिषेक सिंह, संसदीय सचिव श्री लाभचंद बाफना, विधायक वैशालीनगर श्री विद्यारतन भसीन, दुर्ग निगम के महापौर श्रीमती चन्द्रिका चन्द्राकार और चरौदा भिलाई निगम की महापौर श्रीमती चंद्रकांता माण्डले सहित अनेक जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में आम नागरिक उपस्थित थे। 

नितिन गडकरी ने आज दुर्ग जिले के चरौदा नगर में आयोजित कार्यक्रम छत्तीसगढ़ की जनता को चार हजार 355 करोड़ रूपयों की विभिन्न सड़क परियोजनाओं की सौगात दी। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने चरौदा की आमसभा में अपने उदबोधन में श्री गड़करी को इन सड़क परियोजनाओं के लिए प्रस्तावों की सूची देकर शीघ्र मंजूरी देने का अनुरोध किया था। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आज के कार्यक्रम में श्री गडकरी को स्मृति चिन्ह के रूप में बेलमेटल की कलाकृति भेंट कर सम्मानित किया गया। 

    श्री गडकरी ने मुख्यमंत्री के आग्रह को सहर्ष स्वीकार करते हुए मंच पर ही तत्काल उनके सभी प्रस्तावों को मंजूर करने का ऐलान किया। इनमें जहां 1800 करोड़ रूपयों की 388 किलोमीटर की चार सड़कों और चार बायपास सड़कों के उन्नयन और सुधार के प्रस्ताव शामिल हैं। वहीं जिन 17 शहरों में बायपास मार्गों का निर्माण हो चुका है, उनमें आंतरिक सड़कों के निर्माण के लिए 157 करोड़ रूपए भी श्री गडकरी द्वारा तुरंत मंजूर कर दिए गए। उन्होंने इसके अलावा चार शहरों - कवर्धा, बेमेतरा, जगदलपुर और लखनपुर में चार नये बायपास मार्गों के लिए 650 करोड़ रूपए की स्वीकृति भी शामिल हैं। श्री गडकरी ने केन्द्र सरकार की भारत माला परियोजना के तहत छत्तीसगढ़ में एक नये राष्ट्रीय राजमार्ग को भी मंजूर करने की घोषणा की, जिसका निर्माण रायगढ़ से धरमजयगढ़ तक होगा। लगभग 72 किलोमीटर की इस सड़क के निर्माण पर एक हजार करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे। श्री गडकरी द्वारा की गई घोषणाएं इस प्रकार हैं -

  सड़कों के उन्नयन और सुधार के छह कार्य - कुल 388 किलोमीटर, राशि 1800 करोड़ रूपए, इनमें शामिल हैं - 1. राष्ट्रीय राजमार्ग 930 पर झलमला से शेरपार 37 किलोमीटर, राशि 268 करोड़ रूपए, 2. राष्ट्रीय राजमार्ग 130 ए पर मदनगुड़ा से खुटगांव 28 किलोमीटर, 170 करोड़ रूपए, 3. राष्ट्रीय राजमार्ग 930 पर शेरपार से कोहका 47 किलोमीटर, 368 करोड़ रूपए, 4. राष्ट्रीय राजमार्ग 130 ए - 42 किलोमीटर, 304 करोड़ रूपए, 5. तखतपुर बायपास, मुंगेली बायपास, पंडरिया बायपास और पोड़ी बायपास कुल 26 किलोमीटर राशि 229 करोड़ रूपए। श्री गडकरी द्वारा की गई अन्य घोषणाएं इस प्रकार हैं - 1. राष्ट्रीय राजमार्ग 130 सी पर अभनपुर से पोंड 31 किलोमीटर, 263 करोड़ रूपए, 2. जिन 17 शहरों में बायपास रोड़ बन गए हैं, वहां की आंतरिक सड़कों के वन टाइम इम्प्रूवमेंट के लिए 157 करोड़ रूपए, 3. केन्द्रीय सड़क निधि (सीआरएफ) में पांच सड़कों के लिए 458 करोड़ रूपए। इनमें रायपुर शहर के माना जंक्शन पर फ्लाई ओव्हर के लिए 96 करोड़ रूपए, शदाणी दरबार से केन्द्री फोर-लेन सड़क के लिए 99 करोड़ रूपए, दुर्ग से गुण्डरदेही-बालोद मार्ग के लिए 219 करोड़ रूपए, बम्हनीडीह से दहिदा मार्ग पर हसदेव नदी में पुल निर्माण के लिए 35 करोड़ रूपए और गादीरास में मलगेर नदी पर पुल निर्माण के लिए नौ करोड़ रूपए शामिल हैं, 4. राजनांदगांव शहर में परिकाला चौक के पास तथा इस जिले के ग्राम सोमनी के पास सर्विस रोड निर्माण के लिए तीस करोड़ रूपए। श्री गडकरी ने इसके अलावा छत्तीसगढ़ में 650 करोड़ रूपए के चार नये बायपास मार्गों के लिए 650 करोड़ रूपए भी तत्काल मंजूर करने का ऐलान किया। इनमें से कवर्धा बायपास (5.30 किलोमीटर) के लिए 100 करोड़ रूपए, बेमेतरा बायपास (16.60 किलोमीटर) के लिए 250 करोड़ रूपए, जगदलपुर बायपास (17.50 किलोमीटर) के लिए 200 करोड़ रूपए और लखनपुर बायपास (छह किलोमीटर) के लिए 100 करोड़ रूपए श्री गडकरी द्वारा मंजूर करने का ऐलान किया गया। 

   कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 710 हितग्राहियों को नगरीय आबादी पट्टा का वितरण किया गया। साथ ही 20 हितग्राहियों को प्रधानमंत्री उज्जवला योजना अंतर्गत गैस कनेक्शन, कृषि यांत्रिकीकरण सब-मिशन अंतर्गत 3 हितग्राहियों को 1.88 लाख रूपए लागत के पावर टिलर, टेªक्टर और कल्टीवेटर वितरण किया गया। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना अंतर्गत 2 हितग्राहियों को 49 हजार लागत के दो स्प्रिंकलर, शाकम्बरी योजना अंतर्गत 3 हितग्राहियों को 48 हजार लागत के डीजल पम्प, सौर सुजला योजना अंतर्गत 5 हितग्राहियों को 3 एच.पी. का सोलर पम्प का वितरण, एन.आर.एल.एम. के अंतर्गत 5 स्व-सहायता समूहों को 19.49 लाख रूपए का चेक वितरण, प्रधानमंत्री सृजन रोजगार अंतर्गत 5 हितग्राहियों को 37.75 लाख रूपए का चेक वितरण, दीनदयाल अंत्योदय योजना अंतर्गत राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के 47 स्व-सहायता समूहों को 4.70 लाख रूपए आवर्ती निधि का चेक वितरण, 3 हितग्राहियों को 1.50 लाख रूपए का समूह ऋण का चेक वितरण, एक हितग्राही को 50 हजार रूपए का व्यक्तिगत ऋण राशि का चेक वितरण, 10 हितग्राहियों को कौशल प्रशिक्षण प्रमाण पत्र वितरण, अपस्पृयता निवारणार्थ अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना अंतर्गत 2 हितग्राहियों को 5 लाख रूपए, सक्षम योजना अंतर्गत एक हितग्राही को 40 हजार रूपए का चेक, छत्तीसगढ़ महिला कोष से 2 महिला स्व-सहायता समूह को 80 हजार रूपए  का चेक, स्काई योजना अंतर्गत 5 हितग्राहियों के निःशुल्क मोबाईल वितरण किया गया। दुर्ग जिले के मनरेगा मजदूरों को टिफिन योजना का शुभारंभ भी किया गया। योजना अंतर्गत दुर्ग जिले के मनरेगा के 25 हजार मजदूरों को टिफिन वितरण किया गया।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email