सोशल मीडिया / युथ गैलरी

नीले पानी का पुल

नीले पानी का पुल

उड़न तश्तरी के फेसबुक वॉल से...

पानी भी पुल बन जाता है
उस नदी के इस पाट पर  
जहाँ मिलते हैं दो किनारे 
उस नीले पानी के सहारे-
पानी भी पुल बन जाता है 
गर तुम्हारी गहरी सोच को 
तैराकी में महारत हासिल हो!!
वरना कई पानी पर चलते देवता 
उसी नदी में समाधिस्त बैठे हैं। 
नदी का तो बस काम है बहना
नदी आज भी अविरल बहती है!! 
मगर हर नदी की गहरी तलहटी में 
एक ठहरा हुआ अडिग तटस्थ थल है!!
वो कहीं नहीं जाता नदी के साथ
थमा हुआ साक्षी है असंख्य जलधाराओं का - 
कोई उस नदी को माता पुकारे तो क्या?
कोई उस नदी को जलधारा पुकारे तो क्या?

-समीर लाल ‘समीर’

https://udantashtari.blogspot.com/2022/09/blog-post_20.html

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email