सोशल मीडिया / युथ गैलरी

‘टिकटॉक’ पर एक बार फिर बैन का संकट, 22 जुलाई तक जवाब नहीं दिया तो हो सकता है बैन

‘टिकटॉक’ पर एक बार फिर बैन का संकट, 22 जुलाई तक जवाब नहीं दिया तो हो सकता है बैन

मीडिया रिपोर्ट 

मोबाइल पर 'टिक टॉक' ऐप के जरिए आपके किसी दोस्त की ओर से शेयर किए गए वीडियो से आपके चेहरे पर कभी मुस्कान आई होगी. हो सकता है कि आपने भी उसे अपने फ्रेंड सर्किल में शेयर किया हो. लेकिन ठहरिए, इस ऐप का हंसने-हंसाने के लिए ही इस्तेमाल नहीं हो रहा. चीन से संचालित इन ऐप के जरिए ‘भारत विरोधी कंटेंट’ और अश्लील वीडियो क्लिप्स शेयर किए जाने के खतरे को लेकर भारत सरकार ने गंभीर रुख अपनाया है.

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साइबर लॉ और ई-सिक्योरिटी विंग (MeitY) ने 'टिक टॉक' और 'हेलो' ऐप प्लेटफॉर्मों के ऑपरेटर्स को बुधवार को सख्त नोटिस भेज कर 22 जुलाई तक जवाब मांगा है. इन दोनों ऐप को चीन स्थित कंपनी ‘बाइटडांस’ की ओर से संचालित किया जाता है.

मंत्रालय ने ‘टिक टॉक’ और ‘हेलो’ को भेजे नोटिस के साथ 24 सवालों की फेहरिस्त भेजी है. दोनों ऐप के ऑपरेटर्स से उन आशंकाओं पर विस्तार से जवाब देने के लिए कहा है जिनके मुताबिक इन ऐप के जरिए ‘भारत विरोधी कंटेट’ और अन्य गैर कानूनी गतिविधियों को बढ़ावा दिया जा रहा है.

सरकारी सूत्रों का कहना है कि अगर टिकटॉक और हेलो के ऑपरेटर्स की ओर से 22 जुलाई तक संतोषजनक जवाब नहीं मिला तो इन दोनो ऐप पर बैन लगाया जा सकता है.

सूत्रों के मुताबिक दोनों ऐप से पूछा गया है कि--

- आपत्तिजनक कंटेंट पर कैसे नजर रखी जाती है? और अगर ऐसा कोई कंटेंट मिलता है तो उसे कैसे हटाया जाता है.

- अंडरऐज यूजर्स को लेकर क्या प्रावधान हैं?

- कैसे यूजर्स का डेटा इकट्ठा किया जाता है और उसे कहां शेयर किया जाता है?

- क्या भारतीय यूजर्स के डेटा को चीन में भी स्टोर किया जा रहा है?

- कैसे आश्वस्त करेंगे कि भारतीय यूजर्स का डेटा किसी विदेशी सरकार, किसी तीसरे पक्ष या निजी संस्था को भविष्य में नहीं बेचा जाएगा?

स्वदेशी जागरण मंच ने लिखी थी पीएम को चिट्ठी

मंत्रालय ने ये सख्त कदम कुछ एजेंसियों की तरफ से लिखित शिकायत के बाद उठाया है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से जुड़े संगठन स्वदेशी जागरण मंच (SJM) के सह-संयोजक अश्विनी महाजन ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिख कर ‘टिकटॉक’ और ‘हेलो’ समेत सभी चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है.

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email