बस्तर

किसी को विकास देखना हो तो पूरा छत्तीसगढ़ घूमकर देखे : डॉ. रमन सिंह #vikasyatra

किसी को विकास देखना हो तो पूरा छत्तीसगढ़ घूमकर देखे : डॉ. रमन सिंह #vikasyatra

बस्तर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि विगत 14 साल में राज्य के हर क्षेत्र में तरक्की हुई है और हर व्यक्ति के जीवन में बदलाव आया है। अगले पांच वर्ष में छत्तीसगढ़ का चौगुना विकास होगा। डॉ. सिंह ने कहा- किसी को अगर विकास देखना हो तो राज्य के दन्तेवाड़ा, बीजापुर और बस्तर को देखे, सरगुजा को देखे। अगर कोई पूरा छत्तीसगढ़ को घूमकर देखे तो उसे विकास ढूंढने की जरूरत नहीं पड़ेगी। कोई गरीब भूखा न सोये, हर मरीज को इलाज की पूरी सुविधा मिले, बच्चों को शिक्षा के बेहतर अवसर मिले, यही तो विकास है। 

    मुख्यमंत्री आज अपरान्ह प्रदेशव्यापी विकास यात्रा के दौरान बस्तर जिले के ग्राम पंचायत मुख्यालय जैबेल (विकासखण्ड-बकावण्ड) में एक विशाल जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा- सिर्फ विकास यात्रा में ही नहीं बल्कि अन्य अवसरों पर भी मैं बार-बार बस्तर अंचल में आऊंगा और जनता से मिलूंगा। डॉ. सिंह ने आम सभा में उमड़े जनसैलाब को देखकर कहा - जनता के इस जोश ने विकास यात्रा की मेरी विगत छह दिनों की थकान दूर कर दी है। डॉ. सिंह ने आमसभा में भानपुरी से जैबेल होकर करपावण्ड तक सड़क मरम्मत और चौड़ीकरण के लिए मंजूरी देने की घोषणा की। उन्होंने कहा- जैबेल में महिला सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 10 लाख रूपए दिए जाएंगे। इसके अलावा ग्राम जैबेल, कोंगरा, पखना, खोरखोसा और छोटे आमाबाल में पेयजल पाइप लाइन विस्तार के लिए छह करोड़ रूपए स्वीकृत किए जाएंगे।

    उन्होंने आम सभा में शासन की विभिन्न योजनाओं के तहत छह हजार से ज्यादा हितग्राहियों को सामग्री, चेक और आबादी पट्टे आदि का वितरण किया। इनमें से 3300 परिवारों को आबादी पट्टे और प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत एक हजार 110 गरीब परिवारों की महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन दिए।     डॉ. रमन सिंह ने आमसभा में लोगों को केन्द्र और राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी और कहा कि इन योजनाओं के जरिए प्रदेश के हर क्षेत्र और हर परिवार में खुशहाली आ रही है। डॉ. सिंह ने कहा- राज्य के किसानों को बोनस देने, गरीबों को एक रूपए किलो चावल, निःशुल्क नमक और पांच रूपए किलो में चना वितरण की शुरूआत पहली बार हमारी सरकार ने की। विकास यात्रा के दौरान प्रदेश के 12 लाख से अधिक ग्रामीण परिवारों को आबादी पट्टों का वितरण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में अब भूख से मौत नहीं होती। कोई भूखा नहीं सोता। पसिया पीकर जीवन चलाने की मजबूरी खत्म हो गयी है। मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत प्रदेश के अमीर-गरीब सभी परिवारों सालाना 50 हजार रूपए तक निःशुल्क इलाज की सुविधा दी जा रही है। इस योजना के तहत सबके लिए स्मार्ट कार्ड बन रहे हैं। गरीबों को इलाज के लिए अब आर्थिक समस्या का सामना नहीं करना पड़ता। तेन्दूपत्ता श्रमिकों की मजदूरी जो वर्ष 2003-04 में 450 रूपए प्रति मानक बोरा थी, उसे क्रमशः बढ़ाते हुए अब 1800 रूपए से बढ़ाकर इस वर्ष 2500 रूपए कर दिया गया है। नक्सल पीड़ित आदिवासी बहुल क्षेत्रों के बच्चों के लिए प्रयास आवासीय विद्यालयों की शुरूआत की गयी है, जहां पढ़ाई के साथ-साथ निःशुल्क कोचिंग लेकर बच्चे अब डॉक्टर और इंजीनियर बन रहे हैं। आदिवासी क्षेत्रों में शिक्षा सुविधाओं का विस्तार हो रहा है और वहां के युवा भी संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं में चयनित होकर आईएएस और आईपीएस अधिकारी बन रहे हैं। 

    मुख्यमंत्री ने कहा- प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) के तहत अगले चार माह में बस्तर संभाग के सभी गांवों और घरों में बिजली पहंुच जाएगी। इसके लिए काम तेजी से चल रहा है। बीजापुर सहित बस्तर संभाग के हर जिले में अच्छी और बारहमासी सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की आयुष्मान भारत योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि यह देश और दुनिया की पहली ऐसी स्वास्थ्य बीमा योजना है, जिसमें गरीबों को हृदय रोग, कीडनी, कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों के इलाज और लीवर प्रत्यारोपण के लिए भी पांच लाख रूपए तक सहायता मिलेगी। आमसभा को बस्तर के लोकसभा सांसद श्री दिनेश कश्यप ने भी सम्बोधित किया। इस मौके पर स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप, वन और विधि मंत्री श्री महेश गागड़ा और अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती जबिता मण्डावी सहित अनेक वरिष्ठ जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे। 

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email