बस्तर

लॉक डाउन के चलते बस्तर में बेरोकटोक सप्लाई हो रही शराब -सवाल करने पर थाना प्रभारी देते है FIR की धमकी

लॉक डाउन के चलते बस्तर में बेरोकटोक सप्लाई हो रही शराब -सवाल करने पर थाना प्रभारी देते है FIR की धमकी

 ANI  !644985551  से प्राप्त सुचना के अनुसार 
जगदलपुर- कोरोना वाइरस के चलते संपूर्ण देश में लॉक डाउन प्रभावसील है.जरूरत की दुकानों को  छोड़ सभी प्रकार के सामग्री मिलने वाले मॉल,दुकानें इत्यादि बंद पड़े हैं इस बीच शराब प्रेमी शराब की तलाश में कई जगहों की तलाश में है.बस्तर में भी शराब प्रेमियों के दिन अच्छे से नहीं कट रहे लिहाजा जुगाड़ में गांव-गांव भटकने लगे हैं.ओडिसा सीमा पास होने के चलते शहर के शराब प्रेमी इसकी पूर्ति करने में भी जुटे हुए हैं.हैरत की बात तो यह है कि आसानी से उड़ीसा प्रांत में शराब मिल रही है और बेरोकटोक,यहां से छत्तीसगढ़ में सप्लाई भी हो रही है.सीमा पर नगरनार थाना पड़ता है मगर शराब की सप्लाई रोकने में नगरनार पुलिस नाकाम नजर आ रही है.गाड़ियों में भर-भर कर पिछले  5 दिनों के अंदर लाखों की शराब बस्तर पहुंची है.शराब की बोतलें नगर के कुछ ठिकानों में आसानी से मिलने भी लगी है.लॉक डाउन खत्म होने में अभी 9 दिन और बचे हैं और  इन 9 दिनों के लिए शराब प्रेमी रुकने को भी तैयार नहीं है.लिहाजा ऊंची कीमतों पर भी शराब खरीद रहें है.नगरनार पुलिस वाहनों को चेक तो जरूर कर रही पर शराब की बोतलें मिलने पर भी किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं हो रही.इससे स्पष्ट हो रहा है कि आसानी से कोई भी उड़ीसा प्रांत से शराब ला सकता है.नगर के कुछ ऐसी जगह भी है जहां अपने आप को प्रभावी बताते लोग शराब उपलब्ध करा रहे हैं और उन्हें पुलिस का डर भी नहीं है.ओडिसा से बेरोकटोक शहर में शराब लाने के मामले पर नगरनार पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठना लाजमी है.बताया तो यह भी जा रहा है कि नगरनार पुलिस शराब तस्करों को खुली छूट दे रखी है.जिसकी वजह से यह व्यवसाय लॉक डाउन के दौरान भी फल-फूल रहा है.इस संबंध में नगर के एक टीवी संवाददाता ने कारण जानना चाहा तो उनके खिलाफ थाना प्रभारी शिवशंकर गेंदले ने एफआईआर दर्ज करने की धमकी दे डाली,इससे यह स्पष्ट हो रहा है कि गोरखधंधा करने वाले लोगों का खुला समर्थन टीआई नगरनार कर रहे हैं.सरकार संक्रमण न फैले और लॉक डाउन  का लोग अनुपालन करें इसके लिए जी जान से लगी हुई है वहीं कुछेक लोगों की गलती की वजह से यह सफल होती नजर नहीं आ रही.अपने बदमिजाज व्यवहार की वजह से ही थाना प्रभारी नगरनार गेंदले काफी चर्चा में रहते हैं.जगदलपुर शहर में शिवशंकर गेंदले यातायात प्रभारी हुआ करते थे उस समय भी छोटे-छोटे मामलों के लिए में सुर्खियों में रहे पर उन पर आज तक कार्यवाही नहीं हुआ जो सबसे बड़ा सवाल है.सीमा स्थित थाना होने के चलते इसे गंभीरता से नहीं लिया जा रहा. ओडिसा में ठेका सिस्टम होने के चलते गांव गांव में शराब विक्रय किया जाता है.यही कारण है कि लॉक डाउन के चलते भी वहां आसानी से शराब मिल रहा है और उक्त शराब छत्तीसगढ़ में बेरोकटोक लाया जा रहा है.इस पर लगाम लगाने का प्रयास आजतक नगरनार पुलिस नहीं कर पाई है बल्कि आसानी से छत्तीसगढ़ में लाने की खुली छूट दे रखी गई है.पुलिस प्रशासन को ऐसे मामलों पर गंभीर होना चाहिए ताकि लॉक डाउन का सही से पालन किया जा सके.

संयम बरते - थाना प्रभारी -करीमुद्दीन 

लॉक डाउन के दौरान पुलिस,प्रेस स्वस्थ्य कर्मी जी तोड़ मेहनत कर कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहें है.ऐसे में कोई खबर के लिये नगरनार थाना प्रभारी द्वारा वर्शन ना देकर एफआईआर की धमकी देना निंदनीय है.उच्च अधिकारियों को इस पर विचार ध्यान देने की आवश्यकता है.

 एस.करीमुद्दीन -  अध्यक्ष   - बस्तर जिला पत्रकार संघ के  

 

 होगी कार्यवाही

सीमा में शराब तस्करी जैसी गतिविधियां अगर संचालित हो रही है तो गंभीर विषय है.बस्तर पुलिस लॉक डाउन की कड़ाई से पालन कर रही है.शराब तस्करी की जांच की जायेगी दोषी पाये जाने पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी-चाहे जी भी हो.

चंद्रशेखर परमा एसडीओपी पुलिस

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email