दुर्ग

डॉ. खूबचंद बघेल ने विकसित छत्तीसगढ़ और खुशहाल किसान का सपना देखा था: श्री भूपेश बघेल

डॉ. खूबचंद बघेल ने विकसित छत्तीसगढ़ और खुशहाल किसान का सपना देखा था: श्री भूपेश बघेल

TNIS

दुर्ग : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और छत्तीसगढ़ राज्य के स्वप्नदृष्टा डॉ. खूबचंद ने विकसित छत्तीसगढ़ और खुशहाल किसान का सपना देखा था और इसके लिए जीवन भर संघर्ष किया। हम उनके सपनों का छत्तीसगढ़ बनाएंगे।

डॉ. खूबचंद बघेल की पुण्यतिथि पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने दुर्ग जिले के ग्राम मोरिद के ग्रामीणों को संबोधित करते हुए इस आशय के विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा इस दिशा में ठोस निर्णय लिए जा रहे हैं। छत्तीसगढ़ में खेती अब लाभप्रद होगी। लोग अधियारा नहीं खोजेंगे, अब वे खुद खेती करना चाहेंगे।

 मुख्यमंत्री ने डॉ. खूबचंद बघेल की प्रतिमा का अनावरण करते हुए उन्हेें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि किसी एक विषय में ही विशेषज्ञता प्राप्त करना भी दुर्लभ होता है लेकिन डॉ. बघेल के व्यक्तित्व की विशेषता रही कि वे एक साथ कई विषयों में पूरी पकड़ रखते थे। वे राजनीतिज्ञ, विचारक, संगठक, लेखक, कलाकार सभी थे।

इस मौके पर जिले के प्रभारी मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य के संघर्ष की दिशा में डॉ. बघेल के योगदान को छत्तीसगढ़ कभी नहीं भूला सकता। छत्तीसगढ़ के विकास को लेकर देखे गए उनके स्वप्न को पूरा करने की दिशा में पूर्ण समर्पण के साथ कार्य करेंगे।

याद किया छत्तीसगढ़ भातृ संघ के कार्यक्रम को

मुख्यमंत्री ने डॉ. बघेल के योगदान का स्मरण करते हुए कहा कि वर्ष 1967 में राजनांदगांव में छत्तीसगढ़ भातृसंघ के कार्यक्रम में डॉ. बघेल ने छत्तीसगढ़ राज्य की हुंकार भरी। उनके और साथियों के संघर्ष को परिणति मिली और छत्तीसगढ़ राज्य अभी उन्नीसवें वर्ष में प्रवेश कर चुका है। छत्तीसगढ़ राज्य को समृद्ध करने की दिशा में बहुत सा काम करना है और इस संकल्प के साथ हम आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने बजट में किसानों के लिए पर्याप्त राशि रखी, क्योंकि किसानों के संतोष के बगैर किसी तरह की ठोस उपलब्धि हासिल नहीं की जा सकती। अब खेती तरक्की करेगी तो छत्तीसगढ़ भी तेजी से बढ़ेगा।

चरवाहों को भी करेंगे मजबूत

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था की बुनियाद पशुधन से है, चरवाहों से है।  हम मनरेगा के माध्यम से ऐसे कार्य करेंगे जिससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। दैहान में पशुधन के लिए चारे आदि का पर्याप्त इंतजाम होगा। ग्रामीण युवकों को गोबर गैस प्लांट के लिए प्रशिक्षित करेंगे। इससे गांव में ही गांव का बना जैविक खाद उपलब्ध होगा। इससे खेती में लगने वाली लागत घटेगी। डीएमएफ से किसानों के लिए जरूरी अधोसंरचनाएं विकसित की जाएंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम नालों का रिचार्ज करेंगे इससे भूमिगत जल का स्तर बढ़ेगा। इससे ज्यादा से ज्यादा समय नालों में पानी रहेगा। नालों के किनारे खेती करने वाले किसान इससे पानी ले सकेंगे। इसके लिए बिजली की लाइन आदि की सुविधा के लिए डीएमएफ से व्यवस्था कराई जाएगी। 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email