ज्योतिष और हेल्थ

विश्व हेपेटाइटिस दिवस - हेपेटाइटिस आमतौर पर गंदे पानी व भोजन के सेवन से होता है : डॉ. पंकज अग्रवाल

विश्व हेपेटाइटिस दिवस - हेपेटाइटिस आमतौर पर गंदे पानी व भोजन के सेवन से होता है : डॉ. पंकज अग्रवाल

No description available.

विश्व हेपेटाइटिस दिवस पर आशीर्वाद अस्पताल श्याम कॉलोनी 33 फुट रोड पर 

डा. पंकज अग्रवाल ने अखिल भारतीय मानव कल्याण ट्रस्ट के साथ आमजन को जागरूक।

फरीदाबाद : अखिल भारतीय मानव कल्याण ट्रस्ट के राष्टिय अध्यक्ष डा. एम पी सिंह  ने विश्व हेपेटाइटिस दिवस के अवसर पर लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि हेपेटाइटिस का मतलब उस अंग में सूजन होना होता है जो पोषक तत्वों को प्रोसेस करता है, खून को फिल्टर करता है, और संक्रमण से लड़ता है। यानी यह अंग लीवर है व लीवर में होने वाली सूजन को हेपेटाइटिस कहते हैं। जब लीवर में सूजन या डैमेज होता है, तो लीवर का कार्य प्रभावित हो सकता है। ज्यादा शराब पीने, विषाक्त पदार्थ, कुछ दवाएं और कुछ चिकित्सीय स्थितियां हेपेटाइटिस की समस्या को जन्म देती है।

उन्होंने कहा कि हेपेटाइटिस आमतौर पर गंदे पानी व भोजन के सेवन होना शुरू होता है। हेपेटाइटिस - ए, ई के इन्फेक्शन की शुरुआत दूषित जल और दूषित भोजन से होती है। इसके अलावा खुले में शौच, हाथ न धोना और सीवर आदि की सफाई करने वाले लोगों में हेपेटाइटिस तेज़ी से फैलना शुरू होता है। वहीं हेपेटाइटिस-बी और सी संक्रमित व्यक्ति को लगाए गए इंजेक्शन को दोबारा किसी व्यक्ति में लगा देने से होती है। हेपेटाइटिस-बी से संक्रमित मरीज़ का खून किसी दूसरे व्यक्ति को चढ़ा देने से भी संक्रमण फैल सकता है।हेपेटाइटिस-बी और सी संक्रमित व्यक्ति से यौन संबंध बनाने से भी फैल सकता है। हेपेटाइटिस से संक्रमित होने पर सबसे पहले मरीज के लिवर में खराबी होना शुरू होती है ।

आशीर्वाद अस्पताल से डॉ. पंकज अग्रवाल 
 ने बताया कि संक्रमण की शुरुआत होने पर मरीज के लिवर में सूजन शुरू होती है और धीरे-धीरे लिवर खराब होने लगता है। डॉ. महेश ने कहा कि इस तरह का कोई भी लक्षण अगर शरीर में दिखाई दे तो मरीज को लापरवाही नहीं करनी चाहिए तुरंत डॉक्टर के पास जाकर सलाह लेनी चाहिए। वहीं दूसरी ओर इस डर से बाहर निकलने के लिए अगर कुछ व्यक्तिगत तौर पर सावधानियां बरती जाए तो इन सभी समस्याओं से छुटकारा भी पाया जा सकता है, जैसे बाहरी वस्तुओं के खानपान पर प्रतिबंध एवं ठंडे पेय पदार्थों का सेवन ना किया जाए तो इन समस्याओं से काफी हद तक बचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ शरीर मनुष्य का सबसे सुंदर गहना होता है, लेकिन आजकल की युवा पीढ़ी इस बात को समझने में असमर्थ है और उनका ध्यान बाहरी फास्ट फूड पर ज्यादा रहता है यही कारण है कि आजकल युवा पीढ़ी में अनेक बीमारियां देखने को मिल रही है ।

अखिल भारतीय मानव कल्याण ट्रस्ट के संस्थापक डॉ हृदयेश कुमार सिह ने बताया कि हम लोग ट्रस्ट के माध्यम से आशीर्वाद अस्पताल के साथ मिलकर आगे भी समाज के लिए कार्य करते रहेंगे यहां पर सभी स्टाफ़ का आम लोगो के लिए बहुत ही अच्छा ब्यवहार और आप यहां पर किसी भी तरह के इलाज के लिये आ सकते हैं

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email