ज्योतिष और हेल्थ

जहरीली हवा के असर से बचना है तो खाए ये पांच फूड्स

जहरीली हवा के असर से बचना है तो खाए ये पांच फूड्स

हाल ही में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूएचओर) का वायु प्रदूषण को लेकर खुलासा चौंकाने वाला है, जिसके अनुसार साल 2016 में एक लाख से भी ज्यादा बच्चों की जहरीली हवा में सांस लेने की वजह से मौत हो गई. पर्यावरण पर काम कर रही कई सरकारी और गैर सरकारी संस्थाएं भी इससे मिलते-जुलते आंकड़े देती हैं. एयर प्यूरिफायर मास्क लगाना जहां इसका अस्थायी इलाज है, वहीं पर्यावरण की सुरक्षा के लिए कोशिशें इसका स्थायी लेकिन लंबा वक्त मांगने वाला तरीका है. पर्यावरण का ख्याल रखते हुए अपनी सेहत का ध्यान रखना भी मध्यमार्ग हो सकता है. मिसाल के तौर पर कई ऐसी फल-सब्जियां हैं, रोजाना जिन्हें खाना जहरीली हवा के असर से काफी हद तक बचा सकता है.

अलसी के बीज- इसमें फोटोएस्ट्रोजन और ओमेगा-थ्री फैटी एसिड की काफी मात्रा होती है. इनमें एंटीऑक्सिडेंट के गुण होते हैं यानी ये सांस से जुड़ी तकलीफों को दूर करने का काम करते हैं. यहां तक कि अस्थमा जैसे खतरनाक मर्ज में भी इनका सेवन काफी आराम देता है. अलसी को भूनकर और पीसकर उसे सलाद, दाल या स्मूदी में भी लिया जा सकता है.

Image result for अलसी के बीज

ब्रोकली- जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी में 12 सप्ताह तक हुआ एक शोध बताता है कि रोज ब्रोकली खाने वाले लोगों पर वायु प्रदूषण का असर बहुत कम हो जाता है. इसकी वजह है ब्रोकली की एंटी-कार्सिनोजेनिक प्रॉपर्टी. इसमें विटामिन सी और बीटा कैरोटिन भी होता है जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है.

Image result for ब्रोकली

टमाटर- रोज सब्जियों में स्वाद के लिए डाला जाने वाला टमाटर जहरीली हवा से हमें बचाने के लिए कवच का काम करता है. इसमें बीटा कैरोटिन, विटामिन सी और लाइकोपिन होता है यानी वे एंटीऑक्सिडेंट जो अस्थमा से लेकर किसी भी तरह की सांस की बीमारी से दूर रखते हैं. फेफड़ों को हमेशा स्वस्थ रखने में भी इनका अहम योगदान है.

Image result for टमाटर

पालक- ल्यूटिन, क्लोरोफिल और बीटा कैरोटिन से भरपूर पालक में बीमारियों से बचाने की क्षमता होती है. ये एक बेहतर एंटीऑक्सिडेंट है जो कैंसर और खासकर जहरीली हवा के कारण फेफड़ों पर होने वाले दुष्प्रभाव से बचाता है. इसमें मैग्नीशियम भी होता है जिससे शरीर की बीमारियों से लड़ने की क्षमता बेहतर होती है.

Image result for पालक

हल्दी- हमेशा से भारतीय रसोई का अहम हिस्सा रहा ये मसाला स्मोग के असर को बेअसर कर सकता है. इसमें एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो लंग्स को प्रदूषण के असर से बचाए रखते हैं. कफ होने पर हल्दी को घी में मिलाकर खाने से तुरंत राहत मिलती है. हल्दी, गुड़ और बटर को मिलाकर रात में गुनगुने दूध में डालकर पीना जानलेवा प्रदूषण का असर काफी हद तक कम कर सकता हैदेश

Image result for हल्दी

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email