सूरजपुर

सूरजपुर : कोरोना लॉकडाउन के चलते कुम्हारों का व्यापार चौपट

सूरजपुर : कोरोना लॉकडाउन के चलते कुम्हारों का व्यापार चौपट

सुभाष गुप्ता 

No description available.

सूरजपुर : इस वर्ष भी गर्मी के दिनों में कोरोना लॉकडाउन  के चलते कुम्हारों का व्यापार चौपट हो गया है | कुम्हारों द्वारा गर्मी के मौसम को देखते हुए ठंडे मटके बनाकर तैयार किए गए है। लेकिन सप्ताह भर से अधिक समय से लॉकडाउन के चलते बाजार बंद पड़ा हुआ है और कोई व्यक्ति घर से बाहर नहीं निकल रहा है। जिससे ठंडे घड़े का व्यापार भी बंद पड़ा हुआ है। इस वर्ष कुम्हारों के पास से कलश भी विक्रय नहीं हो पाए है। कोरोना वायरस के चलते चैत नवरात्रा के समय लॉकडाउन  लग जाने से माता मंदिरों में भी इस वर्ष कलश की स्थापना नहीं हो पाई, जिससे कुम्हार काफी परेशान है।

गौरतलब हो कि कुम्हारों से शासकीय विभागों व सामाजिक संगठनों के द्वारा भी गर्मी के दिनों में शीतल प्याऊ खोलने बड़ी मात्रा में ठंडे मटकों की खरीदी की जाती थी। लेकिन इस वर्ष शासकीय प्याऊ भी नहीं खोले। कुम्हारों द्वारा गर्मी को देखते हुए घरों में कलश, व मटका   तैयार किया गया है। लेकिन बाजार बंद होने से  बिक नहीं पा रहा है जिससे कुम्हारों को आर्थिक संकटों का सामना करना पड़ रहा है । नया घड़ा (कलशा) पूजन की जाती है। लेकिन  जिले में 26 अप्रैल तक लॉकडाउन  किया गया है। जिससे लोगों को घर से बाहर निकलने में पाबंदी है। जिससे कुम्हारों के सामने इस त्यौंहार में भी नए घड़े का व्यापार नहीं होने की चिंता सताने लगी है।

नवरात्र के लिए नए कलश का निर्माण किया गया है त्योहार में बेचने की अनुमति प्रदान की जाए जिससे जीवन यापन चल सके 
अखिल भारतीय प्रजापति महासंघ संभागीय अध्यक्ष दिनेश कुमार प्रजापति 

लॉकडाउन के चलते मटका व कलश का व्यापार ठंडा पड़ा हुआ है। बिक्री नहीं होने से आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है 
अखिल भारतीय प्रजापति महासंघ मीडिया प्रभारी  गोपाल चक्रधारी

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email