रायपुर

छत्तीसगढ़ में बेहतर प्रबंधन और प्रशासनिक कुशलता से लड़ रहे कोरोना से जंग

छत्तीसगढ़ में बेहतर प्रबंधन और प्रशासनिक कुशलता से लड़ रहे कोरोना से जंग

मुख्यमंत्री की जनता से हाथ जोड़कर घर लौटने की अपील का दिख रहा असर
सोशल डिस्टेनसिंग से प्रदेश में स्थिति नियंत्रण में
राशन दुकानों से लेकर सब्जी मंडियों तक दिख रही सोशल डिस्टेनसिंग
thenewsindia
दिल्ली, 29 मार्च 2020- कोरोना (COVID-19) की महामारी के खिलाफ जंग में छत्तीसगढ़ की बेहतर प्रबंधन नजर आ रही है। प्रदेश प्रशासनिक कुशलता से इस महामारी से निपट रहा है। आदिवासी बहुल राज्य होने के बाद भी समय पूर्व प्रबंधन से छत्तीसगढ़ राज्य विकसित राज्यों के लिए एक उदाहरण के तौर पर देखा जा सकता है। प्रदेश के शहरी सहित दूरस्थ और वनांचल क्षेत्रों में कोरोना के खिलाफ दिखाई दे रही जन जागरूकता काबिले तारीफ है। इस कामयाबी की वजह प्रदेश में लिए गए त्वरित निर्णय और प्रशासनिक दक्षता है।
प्रदेश में समय रहते ही अपनी सीमाओं को सील करने सहित कई जरूरी फैसले लिए गए यही वजह है कि राज्य में कोरोना नियंत्रण की स्थिति अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर है। केंद्र से बेहतर समन्वय के साथ ही महामारी के नियंत्रण के लिए हर मोर्चे पर कुशलता से कार्य किया जा रहा है।
छत्तीसगढ़ में कोरोना के संक्रमण का  पहला पॉजिटिव मामला सामने आते ही राज्य में लॉक डाउन के निर्देश जारी कर दिए।
इसके साथ ही सोशल डिस्टेनसिंग के बारे में लोगों को जागरूक किया गया। कोरोना के खिलाफ जंग में लोगों से आह्वान करते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने जनता से हाथ जोड़कर घर लौटने की अपील की। मुख्यमंत्री के बैनर पोस्टर जिसमें लिखा है 'घर लौटिए', सभी चौक चौराहों पर लगाये गए। मुख्यमंत्री की जनता से यह भावनात्मक अपील काफी कारगर साबित हुई है।

शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों तक जन जागरूकता के लिए कई पहल किये गए हैं।
छोटे छोटे स्लोगन्स के विडियो बनाये गए, जिन्हें वाट्सअप ग्रुप के माध्यम से शेयर किया गया। ये विडियो स्थानीय बोलियों में बनाये गए ताकि आमलोग ज्यादा कनेक्ट हो सकें।
जन जागरूकता के लिए किए गए उपायों का असर ये हुआ कि बस्तर तक के जनजाति स्थानीय स्तर पर संक्रमण से बचाव के उपाय ढूंढे। बस्तर, नारायणपुर, बीजापुर जिलों के आदिवासियों ने कोरोना का संक्रमण रोकने पेड़ों के पत्तों के मास्क बना कर लगाए। वहीं, प्रदेश के कई गांवों के ग्रामीणों ने गांव के बाहर बैरियर लगाकर खुद को सीमित करने के साथ ही बाहरी लोगों के प्रवेश को वर्जित कर दिया।
शहर से लेकर गांव तक कुशल प्रबंधन से जन जागरूकता दिखाई दे रही है। शहर में होर्डिंग, पोस्टर, विडियो के जरिये वहीं गांवों में मुनादी तथा घर घर जाकर लोगों को कोरोना के लक्षण, बचाव की जानकारी दी जा रही है। सोशल मीडिया के माध्यम से भी लोगों की अपील पर प्रशासन द्वारा त्वरित कार्रवाई की जा रही है।

प्रदेश में सोशल डिस्टेनसिंग को लेकर की जा रही पहल भी नजर आ रही है। राशन दुकानों के बाहर गोल घेरा बनाकर लोग सामग्री खरीद रहे हैं। वहीं सब्जी मंडियों में भी उचित दूरी का ध्यान रखा जा है। सब्जी और राशन की घर पहुंच सुविधा के लिए प्रदेश सरकार ने हेल्पलाइन नंबर जारी किये हैं। इस नंबर के माध्यम से जरूरतमंदों तक सुविधाएं पहुँचाई जा रही हैं।
वहीं इस विपदा की घड़ी में मुख्यमंत्री, मंत्री से लेकर सभी अधिकारी कर्मचारी मुस्तैदी से अपने कर्त्तव्य के निर्वहन में जुटे हैं। दिन में दो बार कैबिनेट की बैठकों के साथ ही विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये जानकारी जुटा कर स्थिति पर नियंत्रण रखा जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री बघेल विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये जिलों में हालात की समीक्षा कर रहे हैं। सभी जिलों के स्वास्थ्य विभाग को हाई अलर्ट पर रखा गया है। प्रदेश का जनसंपर्क विभाग सरकार के जारी हो रहे निर्देशों के साथ ही दी जारी सुविधाओं की जानकारी देने व इसके प्रचार प्रसार में दिन रात जुटा हुआ है।
प्रदेश में प्रशासन की सजगता और सतर्कता से महामारी के खिलाफ जंग कारगर साबित होती दिख रही है। वर्तमान में राज्य में समुदाय स्तर पर कोरोना के संचरण का प्रमाण नहीं मिला है। वहीं राज्य में कोरोना संक्रमण की पहली मरीज के स्वास्थ्य में भी सुधार हो रहा है। इस महामारी के रोकथाम के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा यूनीसेफ की टीम भी आवश्यक सहयोग कर रही है। कोरोना की रोकथाम के लिए राज्य सर्विलेंस इकाई की टीम कांटेक्ट ट्रेसिंग, सेम्पल टेस्टिंग एवं रिपोर्टिंग के लिए लगाई गई है। प्रदेश में महामारी के नियंत्रण के लिए बेहतर रणनीति का असर शहर से लेकर ग्रामीणों अंचलों तक नजर आ रहा है।

हजारों परिवारों को भोजन

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री सभी राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ - साथ केंद्र से भी लगातार सम्पर्क बनाए हुए हे। सोशल मीडिया में झारखंड मुख्यमंत्री की अपील पर , उन्होंने तत्काल छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में झारखंड के सेकड़ो मज़दूरों को ना केवल झारखंड पहुँचाया , उनके भोजन की समुचित व्यवस्था भी की । छत्तीसगढ़ सरकार इस संकट की घड़ी में कोई भूखा ना सोये इसके लिए लॉक डाउन के दौरान हजारों जरूरत मंद परिवारों तक निःशुल्क खाद्यान्न सामग्री प्रदान की जा रही है। जिसमें चावल, दाल, तेल मसाला सहित अन्य सामग्री शामिल है। इसके अलावा प्रदेश के बाहर से आये सभी मजदूरों को रहने की व्यवस्था के साथ ही खाद्य सामग्री का वितरण किया जा रहा है। अन्य राज्यों से पलायन कर रहे मजदूरों को दूसरे राज्यों से समन्वय कर उनके घर तक सुरक्षित पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। सीमावर्ती जिलों के कलेक्टरों को पलायन कर रहे मजदूरों के स्वास्थ्य जांच के निर्देश जारी किए गए हैं।

बॉलीवुड ने भी की सराहना

राजधानी रायपुर समेत पूरे प्रदेश में मुख्यमंत्री की फ़ोटो वाला एक बैनर लगा है, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।
सीएम श्री भूपेश बघेल की फोटो वाले बैनर पर कोरोना वायरस (COVID-19) को लेकर जागरूक किया गया है। साथ ही उसपर लिखा है 'घर लौटिए'। सीएम के इस बैनर का कायल बॉलीवुड भी हो गया है। मशहूर फिल्ममेकर ने इस बैनर की फोटो के साथ एक ट्वीट कर सराहना की है। 

 

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email