राजधानी

प्रधानमंत्री मोदी से मांग कोरोना वायरस के ईलाज में उपयोग में आने वाली दवाओं के दाम तत्काल कम किया जाये -विकास तिवारी

प्रधानमंत्री मोदी से मांग कोरोना वायरस के ईलाज में उपयोग में आने वाली दवाओं के दाम तत्काल कम किया जाये -विकास तिवारी

 रेमडेसीवीर  (RemdesivirInjection ),फेबिपिरावीर(Favipiravir tab) ,आइवरमेकटीन (Ivermectin tab) जीवनरक्षक दवाओं के उत्पादकों को पाँच कंपनी से बढ़ा कर पच्चास कंपनियों से करवाया जाये
 रेमडेसीवीर,फेबिपिरावीर,आइवरमेकटीन दवाओं को   Drug Price control Order (DPCO) Act के अंतर्गत तत्काल लाया जाये
रेमडेसीवीर,फेबिपिरावीर,आइवरमेकटीन दवाओं की बिक्री जनऔषधि केंद्रों,सरकारी एजेंसियों के माध्यम से करवाई जाये
रायपुर 09/04/2021 छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एवं सचिव विकास तिवारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से मांग की है कि कोरोना वायरस के इलाज में लगने वाले दवा रेमडेसीवीर  (RemdesivirInjection ),फेबिपिरावीर(Favipiravir tab) ,आइवरमेकटीन (Ivermectin tab) को तत्काल डीपीसीओ (ड्रग प्राइस कंट्रोल एक्ट) के तहत विक्रय हेतु आदेश जारी करे और इनकी बिक्री जन औषधि एवं सरकारी दवा विक्रय केंद्रों से करवाने की व्यवस्था करें। प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि रेमडेसीविर इंजेक्शन जो कोरोना वायरस से ज्यादा संक्रमित मरीजों को लगाया जाता है।और अभी इसकी माँग पूरे देश में बहुतायत है। यह इंजेक्शन महंगा होने के कारण मध्यमवर्गीय एवं गरीब जनता की खरीदी की पहुंच से दूर है जिसके कारण देश और प्रदेश में बड़ी तादाद में लोगों की  संक्रमण के कारण मौत हो रही है।
कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा रेमडेसीविर इंजेक्शन के उत्पादन हेतु देश में मात्र पाँच कंपनियों को ही लाइसेंस प्रदान किया गया है जिसके कारण पूरे देश में रेमडेसीवीर इंजेक्शन की किल्लत की मारामारी मच गई है जरूरतमंद लोगों को यह दवा नहीं मिल पा रही है उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को तत्काल रेमडेसीविर इंजेक्शन,फेबिपिरावीर,आइवरमेकटीन टेबलेट के उत्पादन हेतु पच्चास कंपनियों को तत्काल लाइसेंस देने की आवश्यकता है। भारत देश की बड़ी दवा उत्पादन कंपनी है गुजरात राज्य में ही स्थित है जहां पर भाजपा की सरकार है और कोरोना महामारी के इस कठिन समय में तत्काल केंद्र सरकार के द्वारा इस बात का निर्णय लिया जाना चाहिये कि इन सभी दी जीवनरक्षक इंजेक्शन और दवाओं का ज्यादा से ज्यादा उत्पादन हो सके और इन्हें डीपीसीओ के मूल्यों के तहत बेचा जा सके ताकि कोरोना संक्रमित लोगों को मदद मिल सके और उन्हें आसानी से यह दवा उपलब्ध हो सके।

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email