मनोरंजन

आज लता जी को 91वां जन्मदिन पर मिलेगा डॉटर ऑफ द नेशन का खिताब

आज लता जी को 91वां जन्मदिन पर मिलेगा डॉटर ऑफ द नेशन का खिताब

एजेंसी 

मुंबई: हिन्दी सिनेमा की स्वर कोकिला लता मंगेशकर 28 सितंबर को अपना 90वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रही हैं। 28 सितंबर को लता का जन्म मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में एक मराठी परिवार में हुआ था। मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में जन्मीं लता पंडित दीनानाथ मंगेशकर की बेटी हैं।  लता का पहला नाम 'हेमा' था, मगर जन्म के पांच साल बाद माता-पिता ने इनका नाम 'लता' रख दिया था।

लता अपने सभी भाई-बहनों में बड़ी हैं. मीना, आशा, उषा तथा हृदयनाथ उनसे छोटे हैं. उनके पिता रंगमंच के कलाकार और गायक थे। बता दें कि लता ने साल 1942 में 'किटी हसाल' के लिए अपना पहला सॉन्ग रिकॉर्ड किया था। लेकिन ये बात उनके पिता दीनानाथ मंगेशकर को पसंद नहीं आई और उन्होंने फिल्म से लता का सॉन्ग हटवा दिया था। लेकिन लता मंगेशकर ने उसके बाद भी गाना जारी रखा।

लता देश ही नहीं विदेशों में भी फेमस हैं। इन्होंने अपनी आवाज के जादू से लोगों के दिलों में खास जगह बनाई है। लता मंगेशकर ने करीब 7 दशकों तक हिंदी गानों की दुनिया पर राज किया है। लता ने 1950 के दौर में कई सुपरहिट फिल्मों में अपनी रूहानी आवाज़ के जरिए सुनने वालों को सुकून पहुंचाया। उस दौरान उन्होंने बैजू बावरा, मदर इंडिया, देवदास और मधुमति जैसी हिट फिल्मों में गाने गाए।

फिल्म 'मधुमति' के गाने 'आजा रे परदेसी' के लिए 1958 में लता मंगेशकर को पहला फिल्मफेयर मिला। लता ने उस दौर के मशहूर गायकों जैसे मोहम्मद रफी, किशोर कुमार, मुकेश, हेमंत कुमार, महेंद्र कपूर और मन्ना डे, इन सभी के साथ सैकड़ों हिट्स दिए। कहा जाता है कि लोग लता की तारीफें करते नहीं थकते थे और बड़े-बड़े प्रोड्यूसर्स, म्यूज़िक डायरेक्टर्स और एक्टर्स उनके साथ काम करने के लिए होड़ लगाया करते थे।

लता जी ने अपने करियर में हिंदी, उर्दू सहित 36 भाषाओं में गाना गाया है और उन्हें हिंदी सिनेमा जगत के सबसे बड़े सम्मान दादा साहब फाल्के अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है। लता जी को 2001 में  भारत रत्न अवार्ड से सम्मानित किया गया। इसके अलावा लता को कई अवार्ड्स से सम्मानित किया गया। वहीं अब भारतीय फिल्म संगीत में सात दशक के अभूतपूर्व योगदान के लिए स्वर कोकिला लता को आज डॉटर ऑफ द नेशन का खिताब दिया जाएगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबि  इस खास मौके के लिए गीतकार और कवि प्रसून जोशी ने खास गीत भी लिखा है।

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email