विशेष रिपोर्ट

सामाजिक सरोकारों से जुड़ी पत्रकारिता जागरूकता अभियान चलाएगा सार्क जर्नलिस्ट फोरम : अनिरुद्ध सुधांशु

सामाजिक सरोकारों से जुड़ी पत्रकारिता जागरूकता अभियान चलाएगा सार्क जर्नलिस्ट फोरम  : अनिरुद्ध सुधांशु

पत्रकारिता को लोकतन्त्र का चौथा स्तम्भ  कहा जाता है। पत्रकारिता ने लोकतन्त्र में यह महत्त्वपूर्ण स्थान अपने आप नहीं प्राप्त किया है बल्कि सामाजिक सरोकारों के प्रति पत्रकारिता के दायित्वों के महत्त्व को देखते हुए समाज ने ही दर्जा दिया है। दिन व दिन पत्रकारिता के गिरते स्तर में सुधार के लिए आने वाले समय में जागरूकता अभियान चलाएगा सार्क जर्नलिस्ट फोरम, इण्डिया चैप्टर। मीडिया के कर्तव्य कहीं निर्धारित नहीं थे, पर अपेक्षा हमेशा ही रही है कि खबरें वे दिखाई जाएं, जिनसे लोगों का सरोकार हो, जिससे लोगों का भला हो. लाइव मिन्ट को 2008 में दिए एक इंटरव्यू में स्टार इंडिया के तत्कालीन मुखिया उदय शंकर ने पत्रकारिता के गिरते स्तर पर पूछे एक सवाल के जवाब में कहा था, ‘‘हमें दो चीज़ों के बीच भेद करने की आवश्यकता है. पहला यह कि क्या ऐसी खबरें जान-बूझकर दिखायी जा रही हैं या फिर काबिलीयत की कमी और अज्ञानता की वजह से किया जा रहा है. मेरा खयाल है भारतीय न्यूज मीडिया में ये दोनों चुनौतियां मौजूद हैं. केवल टीवी नहीं, बल्कि प्रिंट में भी.’’। सार्क जर्नलिस्ट फोरम दक्षिणी एशियाई देशों का एक बड़ा संगठन बन कर उभर रहा है, ऐसे में हमारी जिम्मेवारी भी दिन ब दिन बढ़ रही है। हम कोशिश करेंगे कि हम पत्रकारिता को सरोकारों की पत्रकारिता बनाये रखने में अपनी सफल भूमिका निभाएंगे। हम अपने अध्यक्ष राजू लामा जी, सचिव अब्दुर्रहमान को पत्रकारों को एक छत के नीचे लाने और जिम्मेवारी पूर्ण पत्रकारिता करने के लिए प्रोत्साहित करने का काम करने के लिए आभार व्यक्त करते हैं ।

          अच्छी पत्रकारिता खराब व्यापार, खराब पत्रकारिता अच्छा व्यापार है। हम एक संगठन के तौर पर व्यापार नही सरोकार से लबरेज होना चाहते हैं और पत्रकार और पत्रकारिता से जुड़े मुद्दे को निष्पक्ष रूप से दुनिया के सामने लाना चाहते हैं।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email