विशेष रिपोर्ट

हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो (कविता) - HP Joshi

हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो (कविता) - HP Joshi

हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।
एको जीव गंवावय झन, उदिम अईसे करबो।।

जोडी संग वादा निभाबोन,
जिनगी ल बचाबो।
सरकार के बात मानके,
घर के भीतरी रहिबो।।1।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

चाउर दार के नई हे कमी, 
ए बात ल बगराबो।
फोकट म सरकार देवत हवय
रांध-रांध के खाबो।।2।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

जीमी कांदा-सेमी खोईला
जम्मो सुकसी ल सिरवाबो।
पाछू साल के अथान आम के
चांट-चांट के खाबो।।3।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

मही म चाउर पिसान घोर, 
कढ़ी सुग्घर बनाबो।
सुखा मिरचा अउ लहसुन के 
चटनी ल खाबो।।4।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

पसई नून खाके
जिनगी ल बचाबो।
तभेच माई पिला मिलके
हरेली ल मनाबो।।5।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

फोकट घर ले निकलन नहीं, 
तिरि पासा खेलबो।
दारू-कुकरी के पइसा बचाके
नोनी बर फराक लेबो।।6।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

घर के भीतरी उधमकूद
लईका संग करबो।
हमरो बंस ह अमर राहय,
काम अईसे करबो।।7।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

घर के मेयार म साडी बांध
बाबू ल झुलना झूलाबो।
एक साहर के राजा कहिके
सुग्घर कहानी सुनाबो।।8।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

अंगना म गहिरा कोडके
करा बाटी खेलबो।
बारी म रेंहचूल बांध के
एहू ल झूलाबो।।9।।
हावय हमर संकल्प, अब कोरोना ले लडबो।

रचनाकार - एचपी जोशी, नवा रायपुर, छत्तीसगढ़

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email