विशेष रिपोर्ट

कोरोना वायरस के चलते जाएंगी 2.5 करोड़ नौकरियां! :संयुक्त राष्ट्र

कोरोना वायरस के चलते जाएंगी 2.5 करोड़ नौकरियां! :संयुक्त राष्ट्र

एजेंसी 

नई दिल्ली : महामारी घोषित हो चुके कोरोना वायरस के चलते दुनिया भर में अर्थव्यस्था भी बुरी तरह प्रभावित हो रही है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक आने वाले दिनों में इस बीमारी के चलते दुनिया भर में 2.5 करोड़ लोगों की नौकरियां छिनने का खतरा है। संयुक्त राष्ट्र की संस्था इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि यदि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समन्वय स्थापित किया जाए तो इस संकट को कम किया जा सकता है।

इस संकट का असर सबसे ज्यादा नौकरियां देने वाले रिटेल सेक्टर पर ही सबसे ज्यादा पड़ने की आशंका है। रिटेल सेक्टर में 1.1 करोड़ लोगों की नौकरी जा सकती है। इसके अलावा टूरिज्म और हॉस्पिटेलिटी सेक्टर में 12 लाख लोग बेरोजगार हो सकते हैं। ईकॉमर्स सेक्टर में ही 20 लाख नौकरियों पर संकट मंडरा रहा है। इसके अलावा पहले से ही मंदी झेल रहे रियल एस्टेट सेक्टर की कमर ही टूट सकती है और 35 पर्सेंट नौकरियों के जाने की आशंका है।

अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन ने अपनी रिपोर्ट ‘COVID-19 and world of work:

Impacts and responses’ में कहा कि बेरोजगारी को कम करने के लिए तेजी से प्रयास करने की जरूरत है। आईएलओ ने कहा कि इसके लिए तीन कदम उठाए जा सकते हैं, जो इस प्रकार हैं- वर्कप्लेस पर कर्मचारियों को बचाना, अर्थव्यस्था एवं रोजगार के संरक्षण के उपाय और जॉब एवं इनकम को सपोर्ट।
ILO ने बताया, कैसे बच सकते हैं रोजगार: इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन ने दुनिया भर की सरकारों और औद्योगिक घरानों से लोगों के रोजगारों को बचाने की अपील की गई है। आईएलओ ने कहा कि शॉर्ट टाइम वर्क, पेड लीव और अन्य सब्सिडी के जरिए लोगों की नौकरियां बचाने की कोशिश होनी चाहिए।

2008 से भी भीषण मंदी की आशंका:

अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के मुताबिक यह स्थिति 2008 में दुनिया भर में आई आर्थिक मंदी से भी विकट होगी। तब 2.2 करोड़ लोगों को अपना रोजगार गंवाना पड़ा था और इस बार यह आंकड़ा 2.5 करोड़ तक पहुंचने की आशंका है।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email