विशेष रिपोर्ट

महज 'जिहाद' शब्द का इस्तेमाल करने से किसी को आतंकी नहीं कहा जा सकता : महाराष्ट्र कोर्ट

महज 'जिहाद' शब्द का इस्तेमाल करने से किसी को आतंकी नहीं कहा जा सकता : महाराष्ट्र कोर्ट

मुंबई: महाराष्ट्र की एक अदालत ने आतंक के आरोपियों को बरी करते हुए कहा है कि महज 'जिहाद' शब्द का इस्तेमाल करने को लेकर किसी व्यक्ति को आतंकवादी नहीं कहा जा सकता है. अकोला स्थित अदालत के विशेष न्यायाधीश एएस जाधव ने गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए), शस्त्र अधिनियम और बॉम्बे पुलिस एक्ट के तहत तीन आरोपियों के खिलाफ एक मामले में यह टिप्पणी की. अकोला के पुसाद इलाके में 25 सितंबर 2015 को बकरीद के मौके पर एक मस्जिद के बाहर पुलिसकर्मियों पर हमले के बाद अब्दुल रजाक (24), शोएब खान (24) और सलीम मलिक (26) पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था. अभियोजन के मुताबिक रजाक मस्जिद पहुंचा, एक चाकू निकाला और उसने ड्यूटी पर मौजूद दो पुलिसकर्मियों पर वार कर दिया तथा उसने हमले से पहले कहा कि बीफ पर पाबंदी के कारण वह पुलिसकर्मियों को मार डालेगा. 

आतंकवाद रोधी दस्ता (एटीएस) ने दावा किया कि ये लोग मुस्लिम युवाओं को आतंकी संगठनों में शामिल होने के लिए प्रभावित करने के आरोपी थे. जाधव ने कहा, ‘यह प्रतीत होता है कि आरोपी रजाक ने गो-हत्या पर पाबंदी को लेकर हिंसा के जरिए सरकार और कुछ हिंदू संगठनों के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर किया'.    उन्होंने कहा, ‘बेशक उसने ‘जिहाद' शब्द का इस्तेमाल किया. लेकिन इस निष्कर्ष पर पहुंचना दुस्साहस होगा कि महज ‘जिहाद' शब्द का इस्तेमाल करने को लेकर उसे आतंकवादी करार देना चाहिए'. उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि ‘जिहाद' अरबी भाषा का एक शब्द है जिसका अर्थ ‘संघर्ष' करना है...इसलिए महज जिहाद शब्द का इस्तेमाल करने को लेकर उसे आतंकवादी बताया जाना उचित नहीं है. अदालत के आदेश के बाद रजाक को रिहा कर दिया गया.  

साभार : NDTV

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email