टॉप स्टोरी

अनुच्छेद 370 हाटाने पर सरकार की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद को दिल्ली एअरपोर्ट पर रोका, वापस भेजा दुबई

अनुच्छेद 370 हाटाने पर सरकार की आलोचना करने वाली ब्रिटिश सांसद को दिल्ली एअरपोर्ट पर रोका, वापस भेजा दुबई

एजेंसी 

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) से अनुच्छेद 370 (Article 370) खत्म किए जाने के बाद ब्रिटिश सांसद डेबी अब्राहम्स (Debbie Abrahams) ने मोदी सरकार के इस फैसले की आलोचना की थी. ब्रिटिश संसद की सदस्य और कश्मीर के लिए ऑल पार्टी पार्लियामेंट्री ग्रुप की प्रेसिडेंट डेबी सोमवार को दुबई से भारत पहुंची थीं लेकिन दिल्ली एयरपोर्ट पर ही उन्हें रोक दिया गया. उन्हें बताया गया कि उनका ई-वीजा रद्द कर दिया गया है. जिसके बाद उन्हें वापस दुबई भेज दिया गया.

सोमवार को दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके जाने के बाद डेबी अब्राहम्स ने एक पोस्ट के जरिए बताया था कि सोमवार सुबह करीब 9 बजे दिल्ली एयरपोर्ट पहुंची थीं. एयरपोर्ट पर उनसे कहा गया कि पिछले साल अक्टूबर में जारी किया गया उनका ई-वीजा जो अक्टूबर 2020 तक मान्य था, रद्द कर दिया गया है. इसकी वजह नहीं बताई गई. सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया गया कि ब्रिटिश सांसद के पास भारत आने का वैध वीजा नहीं था. ब्रिटिश हाई कमीशन ने इस मामले पर नजर बनाए रखी. कमीशन के अधिकारियों ने कहा कि वह पता लगा रहे हैं कि सांसद का वीजा क्यों रद्द किया गया.

उन्होंने आगे कहा, 'बाकी सभी लोगों के साथ मैंने भी इमिग्रेशन डेस्क पर अपने सभी दस्तावेज दिखाए थे. उसमें मेरा ई-वीजा भी था. मेरी तस्वीर ली गई और फिर अधिकारियों ने स्क्रीन की ओर देखकर अपना सिर हिलाया. फिर उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा कि मेरा वीजा रद्द कर दिया गया है. उन लोगों ने मेरा पासपोर्ट ले लिया और करीब 10 मिनट के लिए वह लोग वहां से गायब हो गए. जब वह वापस लौटे तो बेहद गुस्से में थे और मुझसे चिल्लाते हुए बोले कि मेरे साथ आओ. मैंने उनसे कहा कि मुझसे ऐसे बात मत करो.'

डेबी अब्राहम्स ने बताया कि उन्होंने अधिकारियों से 'वीजा ऑन अराइवल' की मांग की लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं दिया गया. उन्होंने कहा, 'एयरपोर्ट पर जो इंचार्ज लग रहा था उसने कहा कि उसे खुद कुछ नहीं पता है और जो कुछ भी हुआ, वह उसके लिए शर्मिंदा है. मैं बताने के लिए तैयार हूं कि मेरे साथ अपराधियों की तरह व्यवहार किया गया.' उन्होंने आगे कहा, 'मैं सामाजिक न्याय और मानवाधिकारों की रक्षा के लिए राजनीति में आई थी. मैं अपनी लड़ाई जारी रखूंगी.' बताया जा रहा है कि ब्रिटिश सांसद को उम्मीद थी कि भारत पहुंचने पर उनका वीजा रद्द किया जा सकता है.

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email