टॉप स्टोरी

स्वार्थ के लिए हो रही टीवी चैनलों और अखबारों की स्थापना :वेंकैया नायडू

स्वार्थ के लिए हो रही टीवी चैनलों और अखबारों की स्थापना :वेंकैया नायडू

एजेंसी 

नई दिल्ली : राष्ट्रीय प्रेस दिवस के मौके पर आयोजिक कार्यक्रम में उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि अतीत में खबर का मतलब खबर होता था। इसकी कभी व्याख्या या गलत व्याख्या नहीं की जाती थी। मगर अब खबरें और विचारों को साथ में मिला दिया जाता है जोकि एक समस्या है।

नायडू ने कहा, 'सनसनीखेज दिन का क्रम बन गया है। सनसनीखेज समाचार का मतलब है संवेदनाहीन समाचार। व्यावसायी समूह, राजनीतिक पार्टियां और विशिष्ट लोग अपने स्वार्थ के लिए टीवी चैनलों और अखबारों की स्थापना कर रहे हैं। जिसके कारण पत्रकारिता के मूल मूल्यों का क्षरण हो रहा है।'

उन्होंने आगे कहा, 'आप मुझसे पूछ सकते हैं कि क्या राजनीतिक पार्टियों के पास अखबार खोलने का अधिकार नहीं है? हां लेकिन इसका उल्लेख किया जाना चाहिए। अखबार और राजनीतिक पार्टी अपना-अपना काम कर रहे हैं।'

वहीं केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि फर्जी खबर के रूप में अफवाहें आती हैं। उन्होंने कहा, 'एक झूठी खबर चली की बच्चा चोर आए हैं। ऐसी अफवाह फर्जी खबर के रूप में आती है। यह 20 लोगों की जान लेती है। तब भीड़ हिंसा की चर्चा होती है। लेतिन ये 20 लोग भी भीड़ हिंसा से मारे गए इसकी चर्चा नहीं होती।'

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email