राष्ट्रीय

मथुरा में आज अलर्ट मोड पर प्रशासन, हिंदू महासभा के ऐलान के बाद मचा हड़कंप

मथुरा में आज अलर्ट मोड पर प्रशासन, हिंदू महासभा के ऐलान के बाद मचा हड़कंप

एजेंसी 

मथुरा : मथुरा में अखिल भारत हिन्दू महासभा की ओर से आज, यानी मंगलवार को शाही ईदगाह में हनुमान चालीसा का पाठ करने का ऐलान किया गया है. इस घोषणा के बाद से जिले का पुलिस-प्रशासन अलर्ट मोड पर है. इसके साथ ही श्रीकृष्ण जन्मस्थान और शाही ईदगाह मस्जिद के आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

पाठ करने से रोकने पर आत्मदाह की चेतावनी
दरअसल, अखिल भारत हिंदू महासभा के एक नेता ने सोमवार को जिला प्रशासन को चेतावनी दी कि अगर छह दिसंबर को उन्हें श्रीकृष्ण जन्मभूमि परिसर स्थित शाही ईदगाह में हनुमान चालीसा का पाठ करने की इजाजत नहीं मिली तो वह आत्मदाह कर लेंगे. वहीं, प्रशासन ने दावा किया है कि किसी भी व्यक्ति या संगठन को शांति व्यवस्था और सांप्रदायिक सौहार्द भंग करने की छूट नहीं दी जाएगी.

श्रीकृष्ण जन्मस्थान और शाही ईदगाह मस्जिद के आसपास पुलिस अलर्ट
इस संबंध में पुलिस अधीक्षक (नगर) मार्तण्ड प्रकाश सिंह ने बताया कि, हिन्दू महासभा और उसका समर्थन कर रहे संगठनों के ईदगाह में हनुमान चालीसा पाठ करने की घोषणा के मद्देनजर श्रीकृष्ण जन्मस्थान और शाही ईदगाह मस्जिद के आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. सोमवार को पुलिस बल ने इस इलाके में पैदल मार्च भी किया. हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष दिनेश शर्मा ने कहा कि, 'मंगलवार को तय कार्यक्रमानुसार दोपहर में अभिजीत मुहूर्त में ईदगाह में यदि मुझे भगवान की जन्मस्थली पर हनुमान चालीसा पाठ नहीं करने दिया तो मैं आत्मदाह कर लूंगा.'

प्रशासन की कार्यप्रणाली पर उठाए सवाल
दिनेश शर्मा ने प्रशासन की कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए कहा, 'हम भगवान श्रीकृष्ण की पूजा-अर्चना उनके जन्मस्थान पर नहीं करेंगे, तो फिर कहां करेंगे. यह जिला प्रशासन हमें बताएं.' शर्मा ने एक बयान जारी कर आरोप लगाया कि छह दिसम्बर को लेकर महासभा द्वारा किए गए एलान के बाद देश-विदेश से सनातनी धर्मावलंबी मथुरा पहुंच रहे हैं, जिन्हें हवाई अड्डे और रेलवे स्टेशनों पर रोका जा रहा है और जो किसी तरह यहां पहुंच गए, उन्हें जन्मभूमि के आसपास के होटलों में रुकने नहीं दिया जा रहा है.

मथुरा में पुलिस प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि यह प्रशासन की दमनकारी नीति है, हमारे कई कार्यकर्ताओं को उनके घरों में नजरबंद कर दिया गया है, लेकिन फिर भी मंगलवार को मथुरा में बड़ी संख्या में मौजूद सैकड़ों कार्यकर्ता और पदाधिकारी पहुंच जाएंगे. दूसरी ओर, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) शैलेश पाण्डेय ने कहा कि, किसी भी व्यक्ति अथवा संगठन विशेष को जिले के साम्प्रदायिक सौहार्द एवं शांति व्यवस्था को भंग नहीं करने दिया जाएगा. पाण्डेय ने कहा कि जिले में पहले से ही निषेधाज्ञा लागू की जा चुकी है, जिसके कारण किसी प्रकार की ऐसी नयी गतिविधि की इजाजत नहीं दी जा सकती, जिसके संबंध में शासन ने पूर्व में अनुमति न दी हो.

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email