राष्ट्रीय

'ब्वॉय लॉकर रूम' मामले में नया सुलासा, नाबालिग लड़की ने लड़कों को टेस्ट करने के लिए बनाई थी फर्जी प्रोफाइल

'ब्वॉय लॉकर रूम' मामले में नया सुलासा, नाबालिग लड़की ने लड़कों को टेस्ट करने के लिए बनाई थी फर्जी प्रोफाइल

एजेंसी 

नई दिल्ली : ‘ब्वॉय लॉकर रूम’ केस में एक नया ट्वीस्ट सामने आया है। दिल्ली पुलिस की जांच में यह बात सामने आई है कि इंस्ट्रग्राम ग्रुप के मेंबर्स में से एक मेम्बर नाबालिग लड़की थी, जिसने अपनी पहचान छिपाकर लड़के के किशोरावस्था की एक फर्जी प्रोफाइल बना रखी थी। इस प्रोफाइल का नाम ‘सिद्धार्थ’ था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उसके बाद वह नाबालिग लड़की कथित तौर पर अपने बारे में ही अभद्र पोस्ट करती थी। इसके बाद अन्य सदस्य उस पोस्ट पर टिप्पणी करते थे।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, ब्वॉयज लॉकर रूम केस में ग्रुप एडमिन को गिरफ्तार कर लिया गया, जो इस ग्रुप के एक्टिव मेंबर था। एक नाबालिग को भी पकड़ा गया है। इस केस में 24 से ज्यादा संबंधित छात्रों के साथ दिल्ली पुलिस की तरफ पूछताछ की जा रही है।

दिल्ली पुलिस ने बयान में कहा, जांच में यह पता चला है कि कथित तौर पर जो स्नैपचैट कन्वर्सेशन हुआ है वह दो लोगों के बीच हुआ। इसमें यौन हमले के बारे में एक नाबालिग लड़की फर्जी प्रोफाइल ‘सिद्धार्थ’ के नाम से बनाकर एक अन्य नाबालिग लड़के के कैरेक्टर को परखने के लिए कर कही थी जो इस चैट को रिसीव कर रहा है। हालांकि, इन दोनों नाबालिगों में से कोई भी फर्जी या फिर वास्तविक यूजर नेम से ‘ब्वॉयज लॉकर रूम’ के इंस्ट्राग्राम ग्रुप से नहीं जुड़ा है।

डिवाइस जब्त कर फोरेंसिक जांच के लिए भेजी गई

पुलिस ने बताया कि सदस्यों के कथित तौर पर इंस्ट्राग्राम चैट के स्क्रीन शॉट्स लोगों के बीच है। उन स्क्रीन शॉट्स के आधार पर एक जुवेनाइल की पहचान कर एफआईआर दर्ज करन के बाद उसे पकड़ा गया। इस अपराध के लिए जिस मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया गया था उसे भी जब्त कर लिया गया।

पुलिस के मुताबिक, ब्वॉयज लॉकर रूम के अन्य सदस्यों की डिटेल्स शैक्षणिक संस्थानों और उनके दोस्तों से ली गई। अब तक 24 से ज्यादा छात्रों से इस बारे में पूछताछ कर संबंधित डिवाइस जब्त की गई।

स्नैपचैट कन्वर्शन में नाबालिग लड़की ने बनाई फर्जी प्रोफाइल

लेकिन, कई सारे स्क्रीन शॉट्स कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर शेयर किए जा रहे थे, जिनमें एक स्क्रीनशॉट वन-टू-वन स्नैपचैट कन्वर्सेशन था। जिसमें एक 'सिद्धार्थ' नाम का शख्स एक अन्य से लड़की पर यौन हमले की योजना की सलाह देता दिख रहा था। पुलिस जांच में पता चला कि वास्तव में यह स्नैपचैट कन्वर्सेशन लड़की (भेजने वाली) और लड़का (पाने वाला) था जिसमें गर्ल सिद्धार्थ बनकर चैट मैसेज भेज रही है।

दिल्ली पुलिस ने बताया, “पुरुष की फर्जी आईडेंटिटी के इस्तेमाल कर लड़की चैट में खुद पर यौन हमले की योजना बना रही है। फर्जी आईडी के जरिए इस चैट मैसेज को भेजने का उसका मकसद सामने वाले के कैरेक्टर का पता करना था, वो भी तब जब खासकर कोई लड़की के बारे में खुद बुरा कह रहा हो। हालांकि, मैसेज रिसीवर ने सिद्धार्थ की तरफ से सुझाई गई ऐसी किसी योजना को मानने से इनकार कर देता है।”

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email