राष्ट्रीय

हैदराबाद एनकाउंटर पर बोले परिजन, नाबालिग थे दो आरोपी !

हैदराबाद एनकाउंटर पर बोले परिजन, नाबालिग थे दो आरोपी !

हैदराबाद

हैदराबाद रेप और हत्या केस के आरोपियों के एनकाउंटर का विवाद अभी थमा नहीं है। पुलिस एनकाउंटर में मारे गए चार में से दो आरोपियों के परिजनों का दावा है कि वे नाबालिग थे। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के सामने भी परिवार ने आरोप लगाया कि चारों को एक फेक एनकाउंटर में मारा गया है। बता दें कि हैदराबाद एनकाउंटर पर सवाल उठने के बाद एनएचआरसी के अधिकारी इसकी जांच कर रहे हैं।

बीते दिन सोमवार को अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक मारे गए 4 आरोपियों- जे नवीन, जे शिवा, चेनाकेशवुलु और मोहम्मद अरीफ के परिजनों से मुलाकात की। ये सभी नारायणपेट जिले के गुडिगंडला और जकलैर गांव के रहने वाले हैं। नवीन की मां लक्ष्मी ने कहा, 'नवीन मेरा इकलौता बेटा था और जब उसे मारा गया तो मात्र 17 साल का था। उसका जन्म 2002 में हुआ था। कुछ साल पहले उसने स्कूल छोड़ दिया था। हमें जल्द ही चिन्नापोरमा स्कूल से लीविंग सर्टिफिकेट मिल जाएगा जहां उसने पढ़ाई की थी।'

शिवा के पिता जे रंजना ने एनएचआरसी के अधिकारियों से कहा कि उन्हें शक है कि पुलिस ने उनके बेटे को एक फेक एनकाउंटर में मारा है। उन्होंने कहा, 'वह हथियारबंद पुलिस के सामने से भागने की कोशिश कैसे कर सकते हैं? हमें शक है कि उन्हें एक फेक एनकाउंटर में मारा गया है। अगर मेरे बेटे को अपराध किया भी हो तो भी पुलिस को उसे कोर्ट को सौंप देना चाहिए था।'

रंजना ने भी एनएचआरसी के अधिकारियों को बताया कि उनका बेटा 17 साल का था। उन्होंने बताया, 'शिवा का जन्म 5 अगस्त 2002 में हुआ था।' उन्होंने गुडिगंडला सरकारी स्कूल के हेडमास्टर द्वारा जारी एक सर्टिफिकेट दिखाया। दोनों नवीन और शिवा ट्रक क्लीनर थे, जबकि अरीफ और चेन्नाकेशवुलु ट्रक चलाते थे। चारों को महिला डॉक्टर के साथ रेप और हत्या के दो दिन बाद 29 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था। चारों को 6 दिसंबर को एनकाउंटर में मारा गया जब उन्हें सबूत इकट्ठा करने के लिए शादनगर ले जाया जा रहा था।

साभार : NBT

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email