मनोरंजन
बेबी डॉल मेरा सॉन्ग है

उपमा सिंह
'बेबी डॉल' सनी लियोनी अपनी आने वाली फिल्म 'रागिनी एमएमएस टू' को लेकर बहुत ही एक्साइटेड हैं। इस फिल्म की शूटिंग से पहले ऐक्टिंग से लेकर डांस तक के लिए सनी ने खासी मेहनत की है, वहीं अब उसके प्रमोशन में भी कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं। इसी फिल्म के प्रमोशन के सिलसिले में नवभारत टाइम्स के ऑफिस आईं सनी ने हमसे की खास बातचीतः

सोचा नहीं था इंडिया आऊंगी
कभी प्लान नहीं किया था इंडिया आकर काम करने का। मैं फिल्में करना चाहती थी। फिल्मों में ऐक्टिंग करना चाहती थी, लेकिन मैं इंडिया आऊंगी ये कभी प्लान नहीं किया था। बिग बॉस के लिए उन्होंने मुझे कॉल किया। मेरे हज़्बंड को ईमेल लिखा। जबकि मैं खुद श्योर नहीं थी। मैंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि मैं उस रोल के लिए फिट हूं। इसके बाद उन्होंने मुझे शो का प्रेजेंटेशन भेजा, तब लगा कि यह एक लाइफ टाइम ऑपरट्यूनिटी है, फिर चाहे में वहां एक दिन के लिए रहूं, एक हफ्ते के लिए। इसलिए मैंने कोशिश की, रिस्क लिया और उसका नतीजा अच्छा ही रहा।

... और पढ़ें

बेवकूफियां' में बिकिनी पहनने का फैसला मेरा था : सोनम कपूर

मुंबई: अभिनेत्री सोनम कपूर ने उस फिल्म इंडस्ट्री में संभलकर बोलना सीख लिया है, जहां बयान तोड़-मरोड़ कर पेश किए जा सकते हैं।

 

सोनम के पिता अनिल कपूर ने कथित तौर पर हाल ही में कहा था कि 'बेवकूफियां' में बिकिनी का दृश्य फिल्म को अच्छी शुरुआत देगा। इस बात का खंडन करते हुए सोनम ने कहा, मेरे पिता ने ऐसा कभी नहीं कहा। मैंने एक संवाददाता सम्मेलन में यह कहा था कि मेरे पिता को लगता है कि फिल्म की शुरुआत अच्छी होगी। उस बयान को तोड़-मरोड़कर समाचार पत्रों में उसे बिकिनी के हेडलाइन के साथ प्रकाशित कर दिया गया।

सोनम ने कहा, मुझे एहसास हुआ कि मैं जो बोलती हूं, उसमें मुझे सतर्क रहना होगा। मैं अपने दिल की बात कह देती हूं। फिल्मोद्योग में ऐसी ईमादारी की सराहना नहीं होती। इसकी जगह उसे तोड़ा-मरोड़ा जाता है। मैंने जो कहा था, अनुवाद में उसमें से बहुत कुछ गायब था।

अभिनेत्रियां अधिकतर बिकिनी पहनने का श्रेय पटकथा की मांग को देती हैं, लेकिन सोनम ने कहा कि 'बेवकूफियां' में बिकनी पहनने का फैसला उनका अपना था। उन्होंने बताया, यह निर्माता आदित्य चोपड़ा या निर्देशक नूपुर अस्थाना का विचार नहीं था कि मैं बिकिनी पहनूं। यहां तक कि निर्देशक ने वन पीस बाथिंग कॉस्ट्यूम का सुझाव दिया था, लेकिन मुझे लगा कि बिकिनी सही है।

सोनम ने कहा, अगर आपने देखा है, तो इसमें दो लोग तैरने जा रहे हैं। ऐसे में लड़की का बिकिनी में होना स्वाभाविक है। मैं उस दृश्य में बिकिनी पहनकर खुश हूं। महिला निर्देशक होने से मदद मिली। लेकिन मैं बिकिनी पहनने को लेकर बिल्कुल चिंतित नहीं थी।

... और पढ़ें

'सत्यमेव जयते' ने दिखाया कमाल

श्राबंती चक्रबर्ती आमिर ख़ान के बहुचर्चित शो 'सत्यमेव जयते' के पहले एपिसोड की रेटिंग आ गई है और ये स्टार प्लस का नंबर वन शो रहा. इस कार्यक्रम को स्टार प्लस के सभी शोज़ के मुक़ाबले सबसे ज़्यादा दर्शक मिले. (टीवी की हीरोइंस का संघर्ष) 'सत्यमेव जयते' के दूसरे सत्र के पहले एपिसोड में आमिर ख़ान ने साल 2012 में दिल्ली में हुए चर्चित 'निर्भया' गैंगरेप केस और बलात्कार जैसे संवेदनशील मुद्दे को उठाया और शो के प्रस्तुतिकरण को लोगों ने ख़ासा पसंद किया. अब शो के अगले एपिसोड्स को लेकर दर्शकों की उत्सुकता और ज़्यादा बढ़ गई है. 'सत्यमेव जयते' तो साप्ताहिक शो है, लेकिन डेली सोप्स की बात करें, तो लगातार तीसरे सप्ताह बाज़ी मारी स्टार प्लस के शो 'दिया और बाती हम' ने और ये रहा पहले नंबर पर. (ढेर सारे ऑडिशंस और रोल एक) संध्या की आईपीएस ट्रेनिंग वाला हिस्सा दर्शकों को बड़ा रास आ रहा है. संध्या और सूरज के प्रशंसकों को शायद इस बार ज़्यादा ख़ुशी हुई होगी क्योंकि संध्या अपनी ससुराल वापस आई हैं. संध्या की ननद की शादी है तो टीवी के दीवाने दर्शकों को अपने मनपसंद शो में

... और पढ़ें

कीचड़ उछालने वालों' को आमिर का जवाब

मधु पाल हिंदी सिनेमा में 'मिस्टर परफ़ेक्शनिस्ट' के नाम से जाने जाने वाले आमिर ख़ान उम्र की हाफ़ सेंचुरी लगाने के बेहद क़रीब आ गए हैं. हिंदी सिनेमा में पिछले 25 साल से अपनी धाक जमाते आ रहे आमिर 14 मार्च को 49 साल के हो गए. (आमिर ने दर्ज कराई शिकायत) 1988 में फ़िल्म 'क़यामत से क़यामत तक' से अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत करने वाले आमिर के लिए बीता साल बेहद शानदार रहा था. पिछले साल आई उनकी इकलौती फ़िल्म 'धूम-3' ने बॉक्स ऑफ़िस के सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए 500 करोड़ रूपए की कमाई की थी. इस साल आमिर किसी भी नई फ़िल्म की शूटिंग शुरू नहीं करेंगे. 2014 के आख़िर में उनकी फ़िल्म 'पीके' रिलीज़ होगी. लेकिन ये पूरा साल वो अपने टीवी शो 'सत्यमेव जयते' को समर्पित कर रहे हैं. इस साल 'सत्यमेव जयते' का दूसरा सीज़न दिखाया जा रहा है. इस शो का पहला सीज़न 2012 में आया था. इस शो में उठाए जाने वाले सामाजिक मुद्दों को लेकर आमिर ख़ूब सुर्ख़ियां बंटोर रहे हैं. लेकिन साथ ही उनके शो की कई बातों को लेकर आलोचना भी हो रही है. लोग उनके शो को एकतरफ़ा भी कह रहे हैं और कई लोग उन पर

... और पढ़ें