कोरबा

तीस्ता सीतलवाड़ और श्रीकुमार की गिरफ्तारी निंदनीय : किसान सभा

तीस्ता सीतलवाड़ और श्रीकुमार की गिरफ्तारी निंदनीय : किसान सभा

कोरबा  : अखिल भारतीय किसान सभा से संबद्ध छत्तीसगढ़ किसान सभा ने मानवाधिकार कार्यकर्ता तथा गुजरात दंगों के पीड़ितों की मदद के लिए बनी संस्था सिटीजन फ़ॉर जस्टिस एंड पीस की सचिव तीस्ता सीतलवाड़ की गुजरात एटीएस द्वारा तथा पूर्व डीजीपी आर बी श्रीकुमार की डिटेक्शन ऑफ क्राइम ब्रांच द्वारा गिरफ्तारी की तीखी निंदा की है तथा कहा है कि उनकी गिरफ्तारी के लिए जो दिन चुना गया है, उससे स्पष्ट है कि देश फासीवादी तानाशाही के शिकंजे में कसता जा रहा है।
आज यहां जारी एक बयान में छग किसान सभा के अध्यक्ष संजय पराते और महासचिव ऋषि गुप्ता ने गुजरात दंगों के मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा है कि तीस्ता सीतलवाड़ का अपराध केवल यही है कि वह दंगों की शिकार पूर्व सांसद एहसान जाफरी की पत्नी जाकिया जाफरी के साथ दृढ़तापूर्वक खड़ी रही है तथा संविधान में निहित धर्मनिरपेक्षता के मूल्यों पर प्रतिबद्ध है। सीतलवाड़ और श्रीकुमार दोनों ने गुजरात दंगों के असली अपराधियों का पर्दाफाश किया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आड़ में मोदी सरकार बदले की भावना से काम करते हुए उनके इस साहस और दंगा पीड़ितों की मदद करने के नागरिक अधिकार को कुचलने की कोशिश कर रही है। गुजरात एटीएस और क्राइम ब्रांच के व्यवहार से एक बार फिर साफ हो गया है कि हमारे देश की संस्थाओं को अपने राजनैतिक मंसूबे पूरा करने के लिए भाजपा सरकार ने किस प्रकार अपना गुलाम बनाकर रख दिया है।

किसान सभा नेताओं ने कहा है कि गुजरात दंगों के अपराधी पूरी न्याय व्यवस्था को चिढ़ाते हुए घूम रहे हैं, लेकिन पीड़ितों को न्याय देने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भी आपराधिक चुप्पी साध ली है।
छत्तीसगढ़ किसान सभा ने तीस्ता और श्रीकुमार सहित सभी मानवाधिकार कार्यकर्ताऒं पर लगाये गए फ़र्ज़ी मुकदमे वापस लेने तथा उनका उत्पीड़न बंद करने की मांग की है।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email