जशपुर

नगरपंचायत अध्यक्ष ने CMO को दिए सख्त निर्देश, अतिक्रमण न हटने पर पार्षद ने दी अनशन की धमकी

पत्थलगांव। नगरपंचायत अध्यक्ष श्रीमती उर्वशी देवी सिंह ने लोगों की बार बार शिकायत पर चिन्हित तीन जगहों का बेजा कब्जा जल्द से जल्द हटाने का निर्देश cmo जयमंगल सिंह परिहार को दिया।  मिली जानकारी अनुसार कल 9 अगस्त को नगरपंचायत के द्वारा वार्ड क्रमांक 11 में मोबाइल तिहार के तहत मोबाइल बांटने का कार्य हो रहा था जहां नगरपंचायत के समस्त जनप्रतिनिधि,कर्मचारी, नागरिकगण सहित क्षेत्र के विधायक शिवशंकर साय पैंकरा भी मौजूद थे। इसी दौरान कुछ लोगों ने नगरपंचायत अध्यक्ष एवं विधायक शिवशंकर साय पैंकरा के समक्ष पत्थलगांव में शासकीय भूमि पर हो रहे अतिक्रमण की बात छेड़ दी जिसमे शिकायतकर्ताओ ने अध्यक्ष को कहा कि आज नगरपंचायत के नाक के नीचे शासकीय भूमियों पर कुछ दबंगो के द्वारा खुलेआम बेजा कब्जा किया जा रहा है पर नगरीय प्रशासन इस पर कुछ कार्यवाही नहीं कर रही है।

शिकायतकर्ताओं ने नगर के शासकीय भूमियों पर बेजा कब्जा के मामले पर सीधा नगरपंचायत अध्यक्ष एवं नगरपंचायत अधिकारी,कर्मचारियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह बेजा कब्जा नगरपंचायत के सह पर हो रहा है तभी तो कई बार लिखित शिकायत के बाद भी नगरपंचायत  अतिक्रमणकारी पर कार्यवाही नहीं करती है जिसकी वजह से आज दबंगो को बेजाकब्जा करने में और भी साहस मिल रहा है। शिकायतकर्ताओं के सीधे वार से नगरपंचायत अध्यक्ष गुस्से में आग बबूला हो गई और तत्काल cmo को बुला कर दो दिन के अंदर चिन्हित बेजाकब्जा जनपद कार्यालय के बगल में हो रहे अवैध निर्माण,मुख्यमंत्री स्वालंबन  योजना के तहत बनी भवन में हुए अवैध निर्माण और जनपद कार्यालय के बगल में नगरपंचायत की बिल्डिंग में हुवे अवैध निर्माण हटाने का निर्देश दे दिया। अध्यक्ष के इस निर्णय का समर्थन वहां बैठे आधे दर्जन पार्षदों ने भी किया और सभी ने एक स्वर में कहा कि जल्द से जल्द अतिक्रमण हटा कर अतिक्रमणकारियों पर कार्यवाही की मांग की जाए।

वहीं वार्ड क्रमांक 12 के पार्सद श्यामनारायण गुप्ता ने कहा कि पत्थलगांव में हो रहे अतिक्रमण पर कार्यवाही नही होने की वजह से जनप्रतिनिधियों की छवि खराब हो रही है इस लिए जल्द से जल्द हो रहे बेजाकब्जा को हटाया जाए और उन पर कार्यवाही किया जाए यदि जल्द अतिक्रमण को नहीं हटाया गया तो मेरे द्वारा नगरपंचायत के सामने अनसन किया जाएगा।जिस पर नगरपंचायत cmo ने शिकायतकर्ताओं को दो दिन के भीतर चिन्हित अतिक्रमण को हटाने का आश्वासन दिया है। अब देखने वाली बात यह होगी कि क्या नगरपंचायत उन अतिक्रमणकारियों के अतिक्रमण हटाती है या हर बार की तरह फिर यह खोखला आश्वासन साबित होता है।

Related Post

Leave a Comments

Name

Email

Contact No.