राजधानी

शिवशंकर भट्ट के शपथ पूर्वक बयान के बाद डॉ. रमन सिंह भ्रष्टाचार पुरुष बन गए हैं : कांग्रेस का PC

शिवशंकर भट्ट के शपथ पूर्वक बयान के बाद डॉ. रमन सिंह भ्रष्टाचार पुरुष बन गए हैं : कांग्रेस का PC

रायपुर : नान घोटाले में आरोपी शिवशंकर भट्ट का शपथ पूर्वक बयान के बाद आज शनिवार (14 सितम्बर) को कांग्रेस कमेटी के प्रभारी महामंत्री गिरीश देवांगन और कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने प्रेस कांफ्रेंस किया उन्होंने कहा कि - भट्ट पहले स्वयं दबाव में थे, लेकिन अब उन्होंने अपना बयान सामने रखा है। इस बयान के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह भ्रष्टाचार पुरुष बन गए हैं क्योंकि नान घोटाला रमन सिंह के मुख्यमंत्री रहते हुए था। उन्होंने कहा कि भाजपा के सरकार का घोटाला भाजपा शासनकाल में ही खुला था।

शिवशंकर भट्ट के बयान के बाद प्रतीत होता है कि नान घोटाला 36000 करोड़ से भी ज्यादा का है। घोटाले में भाजपा दफ्तर मुख्यमंत्री निवास और वरिष्ठ नेता के घर पैसे पहुंचाने की पुष्टि होती है। बता दें कि बीते दिन नान घोटाले के आरोपी शिवशंकर भट्ट ने शपथ पूर्वक बयान दिया है कि 2014 में नान के पास 9 लाख मिट्रिक टन धान था बावजूद इसके तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने विभागीय अधिकारियों पर दबाव देकर दस लाख मिट्रिक टन चावल का अतिरिक्त उपार्जन का आदेश दिया। डॉ रमन सिंह ने मुख्यमंत्री और वित्त मंत्री के हैसियत से 236 करोड़ रुपए की क्षतिपूर्ति गारंटी जारी कर दी, जो कि विधि विरुद्ध है । शपथ पत्र में यह दावा किया गया है कि 21 लाख फर्जी राशन कार्ड बनाए गए। और विधानसभा में घोषणा के बावजूद कार्ड जारी रखे गए, इससे तीन हजार करोड़ सालाना का घाटा लगा। शपथ में लिखा गया है कि, दस हजार करोड़ की सब्सिडी जारी कर दी गई जिसका ऑडिट ही नही हुआ। शपथ पत्र तत्कालीन सीएम की पत्नी वीणा सिंह का जिक्र किया गया है। जिसमें यह लिखा गया है कि,कौशलेंद्र सिंह के ज़रिए तीन करोड़ दिए गए। इसके साथ—साथ इसमें यह दावा भी है कि कौशलेंद्र के ज़रिए ही पाँच लाख भी बीना सिंह को दिए गए। शपथ पत्र के शिवशंकर भट्ट ने कहा है कि उनके पास से दिखाई गई जप्ती और कार्यवाही गलत और फर्जी है।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email