राजधानी

नया रायपुर में स्मार्ट सिटी की परिकल्पना हो रही साकार: मुख्यमंत्री डॉ. सिंह

 नया रायपुर में स्मार्ट सिटी की परिकल्पना हो रही साकार: मुख्यमंत्री डॉ. सिंह

नया रायपुर : मुख्यमंत्री ने बीते दिन शाम को यहां नया रायपुर विकास प्राधिकरण (एनआरडीए) द्वारा आयोजित दो दिवसीय स्मार्ट सिटी सम्मेलन के शुभारंभ सत्र को मुख्य अतिथि की आसंदी से सम्बोधित किया। उन्होंने नया रायपुर विकास प्राधिकरण के ऑनलाइन भुगतान के लिए तैयार किए गए पेमेंट गेटवे का भी अनावरण किया। सम्मेलन में उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र तेलंगाना, कर्नाटक, राजस्थान, जम्मू कश्मीर और छत्तीसगढ सहित दस राज्यों के नगरीय निकायों के महापौर तथा कमिश्नर शामिल हुए।

           मुख्यमंत्री ने सम्मेलन में कहा - देश में एक सौ नए स्मार्ट सिटी की कल्पना प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने की है। उनकी उस परिकल्पना को नया रायपुर में हम साकार करने का प्रयास कर रहे हैं, जहां सभी मूलभूत जरूरतों को चिन्हांकित कर, शिक्षा, स्वास्थ्य, इलेक्ट्रिसिटी और ग्रीनरी के लिए प्रावधान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि नये रायपुर को देश के अच्छे स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने के लिए सभी प्रकार के कार्य शामिल किए गए ताकि की आने वाली पीढ़ी के लिए हम एक बेहतर शहर का निर्माण कर सकें। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ प्रदेश का जब गठन हुआ तब प्रदेश के मंत्रालय का संचालन राजधानी रायपुर स्थित उस समय के सरकारी जिला अस्पताल के भवन से शुरू किया गया था। राजधानी के रूप में रायपुर शहर की भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखकर नया रायपुर का निर्माण शुरू किया गया है।

          उन्होंने कहा कि नया रायपुर वर्ष 2030 की आवश्यकताओं के अनुरूप विकसित किया जा रहा है। नया रायपुर के निर्माण में गांवों के स्वरूप को बिना बदले वहां भी नया रायपुर जैसी आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी है। इस अवसर पर नया रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री अमन कुमार सिंह, एनआरडीए के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री मुकेश बंसल, महाप्रबंधक श्री एम.डी. कांवरे, आवास एवं पर्यावरण विभाग के सचिव श्री संजय शुक्ला, तेलंगाना के ऊर्जा विभाग के विशेष सचिव श्री अजय मिश्रा, वृहत मुम्बई कोर्पोरेशन की डिप्टी कमिश्नर सुश्री निधि चौधरी सहित राज्यों के नगरीय निकायों के महापौर और कमिश्नर उपस्थित थे।

        एनआरडीए के अध्यक्ष श्री अमन कुमार सिंह ने नया रायपुर को विकसित करने के लिए मुख्यमंत्री की सोच और नया रायपुर में किए जा रहे विभिन्न कार्यों की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ का जन्म पिछड़ेपन के कारण ही हुआ था। विरासत में हमें नक्सलवाद की समस्या थी। ऐसे समय में बिना किसी आर्थिक सहायता के नया रायपुर विकसित करने की परिकल्पना की। मुख्यमंत्री की सोच के अनुरूप नई राजधानी को जन केन्द्रित बनाया गया। आपसी सहमती के आधार पर 5 हजार हेक्टेयर भूमि की सीधी खरीदी की गई। भूमि अधिग्रहण के गाइड लाइन से दो गुने राशि दी गई। पूरे क्षेत्र को 41 सेक्टरों में बांटा गया। इसी प्रकार नया रायपुर में 27 प्रतिशत क्षेत्र ग्रीन एरिया रखा गया है। इकोडेवलेपमेंट फिलासाफी के तहत 800 एकड़ में जंगल सफारी, 300 एकड़ में बाटनीकल गार्डन,क्रोकोडाइल पार्क, आदि विकसित किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि नया रायपुर में ट्रांजिट आरिएंटेड कांसेप्ट के तहत कार्य किया जा रहा है। जिससे आस पास के अन्य शहर के लोग यहां आकर काम कर सकें। यहां इंटीग्रेटेड कंट्रोल कमांड सिस्टम भी बनाया गया है। जिससे यहां की बिजली, लिफ्ट, एयर कंडीशनर आदि को कंट्रोल किया जा सकता है

      इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने स्मार्ट सिटी सम्मेलन में तेलंगाना के ऊर्जा विभाग के विशेष सचिव श्री अजय मिश्रा को उर्जा विभाग का उर्जा सेक्टर में नवाचार के लिए सम्मानित किया इसी प्रकार समारोह में कर्नाटक के सर्वे एण्ड सेटलमेंट कमिश्नर श्री मुनीष मुदगिल को डिशाक एप के लिए, निधि चौधरी डिप्टी कमिश्नर वृहद मुम्बई मुनिस्पल कार्पोरेशन को अवैध कब्जे हटाने में ई-गर्वेनेंस के उपयोग, डॉ. राजेन्द्र जगताप मुख्यकार्यपालन अधिकारी पुणे स्मार्ट सिटी को स्मार्ट इंफ्रास्ट्रक्चर, लखनऊ के अपर आयुक्त श्री पी.के श्रीवास्तव, मुरादाबाद के कमिश्नर श्री अवनीश कुमार शर्मा, बरेली के कमिश्नर राजेश कुमार श्रीवास्तव को सॉलिड वेस्ट मेंनेजमेंट में नवाचार के लिए सम्मानित किया।

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email