मनोरंजन

प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए सोनू सूद ने जारी किया ट्रोल फ्री नंबर

प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए सोनू सूद ने जारी किया ट्रोल फ्री नंबर

एजेंसी 

नई दिल्ली। कोरोना संकट में जब देशभर में लॉकडाउन है तो लाखों-करोड़ों प्रवासी मजदूर और गरीब अपने घर जाने के लिए मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। एक तरफ जहां सरकार इनके लिए पर्याप्त साधन मुहैया नहीं करा पा रही है ताकि ये अपने घर पहुंच पाए तो दूसरी तरफ फिल्म अभिनेता सोनू सूद इनके लिए वरदान साबित हो रहे है। सोनू सूद पिछले कई दिनों से लॉकडाउन में फंसे लोगों को उनके घर पहुंचाने में मदद करने की वजह से सुर्खियों में हैं। सोशल मीडिया पर ट्वीट के जरिए लोग उनसे मदद की गुहार लगा रहे हैं और सोनू सूद उन्हें कतई निराश नहीं कर रहे हैं। सोनू लगातार इन लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं और सोशल मीडिया पर इन लोगों के संपर्क में बने हुए हैं। ऐसे में जिस तरह से सोनू सूद संकट की इस घड़ी में लोगों की मदद कर रहे हैं, उसकी वजह से उनकी जमकर तारीफ हो रही है।

हर संभव मदद का भरोसा सोनू को हर रोज लोग कई ट्वीट कर रहे हैं और मदद की गुहार लगा रहे हैं, ऐसे में सोनू सूद हर संभव इन लोगों की व्यक्तिगत तौर पर मदद करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अब उन्होंने इनकी मदद के लिए एक टॉलफ्री नंबर साझा किया है। इस बाबत सोनू ने एक ट्वीट करके जानकारी दी है। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, मेरे प्यारे श्रमिक भाइयों और बहनों. अगर आप मुंबई में है और अपने घर जाना चाहते हैं तो कृपया इस नंबर पर कॉल करें 18001213711 और बताएं आप कितने लोग हैं, अभी कहाँ पर हैं और कहां जाना चाहते हैं. मैं और मेरी टीम जो भी मदद कर पाएंगे हम जरूर करेंगे।

अजीब-अजीब मांग दिलचस्प बात ये है कि एक तरफ जहां सच में संकट में फंसे लोग सोनू को ट्वीट करके मदद की गुहार लगा रहे हैं तो कुछ ऐसे लोग भी जो अपनी गर्लफ्रैंड से मिलने, शराब के ठेके जाने के लिए भी सोनू से मदद की अपील कर रहे हैं। लेकिन सोनू इन लोगों को बेहद दिलचस्प अंदाज में जवाब दे रहे हैं। एक व्यक्ति ने ट्वीट करके लिखा कि भैया, एक बार गर्लफ़्रेंड से ही मिलवा दीजिए.. बिहार ही जाना है। जिसके जवाब में सोनू ने लिखा, थोड़े दिन दूर रह के देख ले भाई .. सच्चे प्यार की परीक्षा भी हो जाएगी।

सोनू सूद के दिल जीतने वाले जवाब एक व्यक्ति ने ट्वीट करके लिखा कि बिहार के कोई भी कोई भी कोने में छोड़ दीजिए भाई वहां से पैदल चले जाएंगे ये। जिसपर सोनू ने जवाब दिया कि पैदल शब्द मेरी किताब में नहीं है दोस्त। घर छोड़ना, उसी किताब के पहले पन्ने पर है। लगातार जिस तरह से लोग मदद की अपील कर रहे हैं, उसपर सोनी की प्रतिक्रिया लोगों का दिल जीत रही है। आईए डालते हैं सोनू की कुछ दिल जीतने वाली प्रतिक्रियाओं पर। हो गया समझ, उसको बोलो चक्कर लगाना बंद करे और परेशान ना हो। जाएगा अपने घर। शीघ्र, Possible? मज़ाक़ कर रहे हो bhai? डिटेल्ज़ भेजो, तसल्ली नहीं भाई। घर जाना है। .. और जाओगे, आशा नहीं विश्वास रखना .. घर ज़रूर छोड़ के आऊंगा, अकाउंट में बस दुआएँ डाल दो। उसकी बड़ी ज़रूरत है, उससे बोल चक्कर लगाना बंद .. दो दिन में घर जाएगा, आवेदन को स्थिति ; घर चलें calling You, Details bhej, आपका भाई आपके पास आ रहा है, भाई मैं ठेके से घर तक तो पहुँचा सकता हूँ । ज़रूरत पड़े तो बोल देना, माई का चरणस्पर्श धीरे धीरे सब ठीक हो जाई, घर भेज कर जो जीत मिलती है ना भाई वो अमूल्य है, सूद तो क्या असल भी डबल होकर मिलता है जब हमारे प्रवासी भाई बहन अपने घर पर अपने परिवार वालों के पास पहुँच जाते हैं,मरेंगे तेरे दुश्मन। चल माँ पापा से मिलवा कर लाता हूं। मामा से कहना .. आप भांजे की वजह से घर जा रहे हो।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email