व्यापार

रुपया अपने अब तक के सबसे निचले स्तर 69 प्रति डॉलर पर

दिल्ली : एक अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया अपने अब तक के सबसे निचले स्तर 69 प्रति डॉलर पर आ गया है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में रुपए के टूटने के दो प्रमुख कारण हैं. पहला क्रूड ऑयल यानि कच्चे तेल के बढ़ते दाम. दूसरा चीन-अमेरिका सहित देशों के बीच बढ़ते ट्रेड वॉर के चलते. इसका सीधा असर देश में आयात होने वाले सामानों पर पड़ेगा. मतलब कंप्यूटर, इम्पोर्टेड मोबाइल और सोना महंगा होगा. रुपए के गिरने के पीछे दो प्रमुख कारणों में एक कच्चे तेल के बढ़ते दाम हैं. इसका सीधा मतलब की तेल कंपनियां देश में पेट्रोल के दाम बढ़ाएंगी और असर आपकी जेब पर होगा. पेट्रोल, डीज़ल के दाम बढ़ेंगे. तो इनका असर अन्य चीज़ों पर भी होगा. मतलब दूसरी ज़रूरी चीज़ों के दाम में इजाफा होगा.

 

Related Post

Leave a Comments

Name

Email

Contact No.