टॉप स्टोरी

मद्रास HC ने CAA विरोधी प्रदर्शन पर रोक लगाने से किया इनकार

मद्रास HC ने CAA विरोधी प्रदर्शन पर रोक लगाने से किया इनकार

एजेंसी 

चेन्नई : मद्रास हाईकोर्ट ने चेन्नई में बुधवार को होने वाले सीएए विरोधी प्रदर्शन पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. दरअसल चेन्नई में बुधवार को नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में एक प्रदर्शन आयोजित किया गया था जिसे लेकर कोर्ट ने ये फैसला सुनाया है.

इस प्रदर्शन पर रोक लगाने के लिए अदालत में जनहित याचिका दाखिल की गई थी. इस याचिका में मुस्लिम संगठनों सहित कुछ अन्य संगठनों द्वारा तमिलनाडु विधानसभा की घेराबंदी करने के लिए प्रस्तावित आंदोलन की अनुमति देने से रोकने की मांग की गई थी ताकि सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ सदन में प्रस्ताव लाने की मांग की जा सके.

जब मुख्य न्यायाधीश एपी साही और न्यायमूर्ति सुब्रमणियम प्रसाद वाली पहली बेंच के सामने तत्काल सुनवाई की मांग करते हुए इस याचिका का उल्लेख किया गया था तो उन्होंने निर्देश दिया कि याचिकाकर्ता पत्रकार वरकी सहित, जनहित याचिका दायर करे और उन्होंने कहा कि इसकी सुनवाई के लिए मंगलवार तक का समय लग जाएगा

इससे पहले तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने सोमवार को विधानसभा में कहा था कि कुछ दिन पहले संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में प्रदर्शनों के दौरान हुई हिंसा के पीछे 'निहित स्वार्थ' थे और अफवाह के चलते यह विरोध राज्य के विभिन्न हिस्सों में फैल गया. उन्होंने कहा, ' मैं इस बात को साफ करना चाहूंगा कि अम्मा की सरकार हमेशा अल्पसंख्यकों के हितों का बचाव करेगी.'

पलानीस्वामी ने कहा कि राज्य में पहले भी सीएए के विरोध में प्रदर्शन हो रहे थे और सभी शांतिपूर्ण रहे, शुक्रवार की घटना को छोड़कर. उन्होंने सूचित किया कि सरकार के पास यह जानकारी है कि उत्तर चेन्नई में हिंसा 'कुछ निहित स्वार्थ' के चलते हुई.

उत्तर चेन्नई के ओल्ड वाशरमैनपेट क्षेत्र में 14 फरवरी से जारी धरने को सोशल मीडिया पर 'चेन्नई का शाहीन बाग' कहा जा रहा है. शुक्रवार को इस क्षेत्र में सीएए के विरोध में प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हो गई थी.

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email