राष्ट्रीय

तदर्थ शिक्षकों के समायोजन की मांग को लेकर डूटा का यूजीसी पर प्रदर्शन... हड़ताल के कारण नहीं लगी कक्षाएं

तदर्थ शिक्षकों के समायोजन की मांग को लेकर डूटा का यूजीसी पर प्रदर्शन... हड़ताल के कारण नहीं लगी कक्षाएं

डॉ अनुरुद्ध सुधांशु

डूटा की हड़ताल के कारण नहीं लगी कक्षाएं।

दिल्ली : दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों एवं विभागों में कार्यरत तदर्थ शिक्षकों के समायोजन की मांग को लेकर दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ ने यूजीसी का घेराव किया। डूटा अध्यक्ष प्रो. ए के भागी के नेतृत्व में बारिश के बावजूद हजारों शिक्षकों ने प्रदर्शन में हिस्सा लिया। डूटा की हड़ताल के कारण विश्वविद्यालय में कक्षाएं नहीं लग पायी।  

शिक्षकों को संबोधित करते हुए डूटा अध्यक्ष प्रो ए के भागी ने कहा कि दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षकों की समानता, आत्मसम्मान, लैंगिक समानता एवं उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को सुनिश्चित करने के लिए वर्षों से कार्यरत तदर्थ शिक्षकों का समायोजन जरूरी है। प्रोफ़ेसर भागी ने यूजीसी से डीओपीटी के नियम एवं 200 पॉइंट्स रोस्टर को ध्यान रखते हुए दिल्ली विश्वविद्यालय में तदर्थ शिक्षकों के समायोजन की मांग की। प्रोफेसर भागी ने यूजीसी से विसंगति समिति की रिपोर्ट जल्द से जल्द जारी करने एवं प्रोफ़ेसरशिप के लिए एपीआई तथा पीएचडी में रियायत की अपनी पुरानी मांग को दोहराया। दिल्ली विश्वविद्यालय के सभी कॉलेजों में ईडब्ल्यूएस आरक्षण से बढ़ी 25 प्रतिशत शिक्षक सीटें जारी करने की मांग की।  

डूटा के पूर्व अध्यक्ष आदित्य नारायण मिश्रा, राजीव रे, नंदिता नारायण, अश्विनी शंकर, हंसराज सुमन एवं एस एस रावत ने भी धरने को संबोधित किया।

प्रदर्शन समाप्त होने के बाद डूटा  अध्यक्ष प्रोफ़ेसर ए के भागी के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल अपनी मांगों को लेकर यूजीसी अधिकारियों से मिलाI यूजीसी अधिकारियों ने यूजीसी चेयरमैन सहित अन्य सभी अधिकारियों के साथ 13 अक्तूबर को डूटा प्रतिनिधिमंडल से मिलने का समय दिया है। 

प्रो ए के भागी.  डॉ सुरेंद्र सिंह (अध्यक्ष) (सचिव)

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email