राष्ट्रीय

बंगाल में अब भाजपा में मची भगदड़, TMC में हुई 300 BJP वर्कर्स की वापसी

बंगाल में अब भाजपा में मची भगदड़, TMC में हुई 300 BJP वर्कर्स की वापसी

एजेंसी 

पश्चिम बंगाल : बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले जहां ममता की टीएमसी में भगदड़ मची हुई थी, वहीं अब उलटा भाजपा के साथ हो रहा है। बंगाल में ममता बनर्जी की फिर से सरकार बनते ही टीएमसी छोड़ भाजपा में गए नेताओं और कार्यकर्ताओं की घर वापसी शुरू हो गई है। मुकुल रॉय की घर वापसी के बाद न सिर्फ कई नेता कतार में हैं, बल्कि अब ग्राउंड लेवल के भाजपा कार्यकर्ता भी टीएमसी में लौटने लगे हैं। लेटेस्ट घटनाक्रम में बंगाल के बीरभूम जिले में एक साथ 300 भाजपा कार्यकर्ता शुक्रवार को टीएमसी में वापस लौटे। 

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, बीरभूम में तृणमूल कांग्रेस कार्यालय के सामने कम से कम 300 भाजपा समर्थक भूख हड़ताल पर बैठे थे। उनकी मांग थी कि उन्हें टीएमसी में वापस लिया जाए। हालांकि, बाद में उन सभी को टीएमसी में शामिल कराया गया और गंगाजल छिड़क कर उनके दिमाग का शुद्धीकरण किया गया। बीजेपी कार्यकर्ताओं का यह भूख हड़ताल सुबह 8 बजे शुरू हुआ और यह तीन घंटे तक 11 बजे तक चला। इन्हें टीएमसी में शामिल कराने के वक्त गंगाजल से शुद्ध किया गया। 

दरअसल, टीएमसी में शामिल होने की जिद पर भूख हड़ताल पर बैठे बीजेपी वर्कर्स में से एक अशोक मंडल ने कहा कि हम चाहते हैं कि टीएमसी में हमें वापस ले लिया जाए। हमने अपने गांव के विकास को रोक दिया है। भाजपा में शामिल होने से हमें फायदा के बदले नुकसान हुआ। हम अपनी इच्छा से दोबारा वापस आना चाहते हैं। हमें जब तक वापस नहीं लिया जाता, तब क हम धरने पर बैठे रहेंगे। 

इन तीन सौ कार्यकर्ताओं को टीएमसी का झंडा सौंपने वाले बानाग्राम के तृणमूल पंचायत प्रधान तुषार कांति मंडल ने कहा कि ये लोग पिछले कुछ दिनों से हमारी पार्टी में शामिल होने का अनुरोध कर रहे थे। आज वे पार्टी कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गए और वापस लेने की अपील की। मैंने अपने नेताओं से बात की और उन्हें फिर से अपनी पार्टी में शामिल कराया।

गंगाजल के छिड़काव पर मंडल ने कहा कि भाजपा एक सांप्रदायिक पार्टी है। उसने अपने जहरीले विचारों को इनके दिमाग में डाला है और उनकी मानसिक शांति को खराब कर दिया है। इसलिए उन पर सभी प्रकार की अशांति (बुराइयों) से छुटकारा पाने के लिए शांति जल (पवित्र जल) छिड़का गया। यह उनकी शुद्धि के लिए नहीं था, बल्कि उनके मन की शुद्धि के लिए था जो भाजपा द्वारा प्रदूषित किए गए थे। 

रिपोर्ट के मुताबिक, तृणमूल के सैंथिया विधायक नीलाबती साहा ने कहा कि मैंने सुना है कि इस गांव में कुछ लोग हमारी पार्टी में शामिल हो गए हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि कार्यक्रम का आयोजन हमारे स्थानीय नेताओं ने किया था। इधर, नाम न छापने की शर्त पर जिला स्तर के भाजपा नेता ने कहा कि ये सब नाटक हैं। हर जगह हमारी पार्टी के कार्यकर्ता और समर्थक टीएमसी में शामिल होने को मजबूर हैं। इस तरह के नाटक का आयोजन यह दिखाने के लिए किया जाता है कि यह लगे कि चुनाव के बाद कोई हिंसा नहीं हुई है। कुछ इलाकों में स्थिति इतनी खतरनाक है कि भाजपा कार्यकर्ताओं के पास टीएमसी में शामिल होने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email