राष्ट्रीय

आरुषि हत्याकांड के आरोपी राजेश-नुपूर तलवार को बरी किए जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची CBI

आरुषि हत्याकांड के आरोपी राजेश-नुपूर तलवार को बरी किए जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची CBI

नई दिल्ली : केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) आरुषि हत्याकांड मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के राजेश तलवार और नुपूर तलवार को बरी किए जाने के फैसले के विरुद्ध सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है. सुप्रीम कोर्ट सीबीआई की याचिका पर सुनवाई को तैयार हो गया है. न्‍यायालय हेमराज की पत्नी की याचिका के साथ इस पर सुनवाई करेगा. दरअसल, राजेश तलवार और नुपूर तलवार को बरी करने के इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सीबीआई ने शुक्रवार को यह याचिका दाखिल की. 

इससे पहले बीते वर्ष सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा था कि सीबीआई आरुषि हत्याकांड मामले में इलाहबाद उच्च न्यायालय के राजेश तलवार और नुपूर तलवार को बरी किए जाने के फैसले के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय जाएगी. 

उल्लेखनीय है कि 12 अक्टूबर को इलाहबाद उच्च न्यायालय के न्यायधीश न्यायमूर्ति बीके नारायण और न्यायमूर्ति एके मिश्रा ने तलवार दंपति को संदेह का लाभ देते हुए उनकी 14 वर्षीय बेटी और नौकर हेमराज की हत्या में बरी कर दिया था. दोनों की हत्या नोएडा के जलवायु विहार इलाके में 16 मई 2008 को की गई थी.

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने गाजियाबाद की सीबीआई अदालत का 26 नवंबर 2013 को तलवार दंपति को उम्रकैद का फैसला सुनाने के फैसले को पलट दिया था और तलवार दंपति को रिहा करने के आदेश दिए थे. आरुषि की उसके बेडरूम में हत्या कर दी गई थी. पहले इस हत्या का शक नौकर हेमराज पर था. बाद में, घर की छत पर हेमराज का शव भी पाया गया.

उत्तर प्रदेश पुलिस ने राजेश तलवार पर उसकी बेटी की हत्या का आरोप लगाया था. राजेश तलवार को 23 मई 2008 को गिरफ्तार किया गया था. बाद में, 31 मई 2008 को सीबीआई ने इस मामले को अपने हाथ में ले लिया और शुरुआत में आरुषि के माता-पिता को बरी कर दिया, फिर बाद में दोनों को हत्याओं के लिए इन्हें दोषी ठहराया.

3 जून 2008 को राजेश तलवार के कंपाउंडर कृष्णा को गिरफ्तार किया गया. 10 दिन बाद, तलवार के दोस्त के नौकर राजकुमार और विजय मंडल को गिरफ्तार किया गया. सबूत नहीं मिलने के बाद तीनों को रिहा कर दिया गया था.

 

More Photo

    Record Not Found!


More Video

    Record Not Found!


Related Post

Leave a Comments

Name

Contact No.

Email