राष्ट्रीय

सत्यम घोटाला मामले में सेबी ने ग्लोबल ऑडिटिंग कंपनी प्राइस वाटरहाउस को दो साल के लिए भारत में बैन किया

नई दिल्ली : एजेंसी 

बाजार नियामक सेबी ने ग्लोबल ऑडिटिंग कंपनी प्राइस वाटरहाउस (PW) नेटवर्क को दो साल के लिए भारत में बैन कर दिया है। सेबी ने पाया कि साल 2009 में हुए 8000 करोड़ रुपए के सत्यम घोटाले में इस कंपनी की भी भूमिका थी। इसके बाद सेबी ने कंपनी को दो साल के लिए बैन कर दिया है। 

संबंधित इमेज

प्राइस वाटरहाउस नेटवर्क PWC इंडिया की ऑडिटिंग कंपनी है। अब प्राइस वाटरहाउस नेटवर्क अप्रैल 2018 से दो साल के लिए किसी भी भारतीय कंपनी का ऑडिट नहीं कर पाएगी।  सेबी ने कंपनी से 13.09 करोड़ रुपए 12 फीसदी ब्याज के साथ देने को भी कहा है। इस रकम पर 2009 से ब्याज लगाया जाएगा, जिसके बाद यह रकम करीब 14 करोड़ रुपए हो जाएगी। 

इसके अलावा PW के दो पार्टनर्स गोपालकृष्णन और श्रीनिवास टल्लूरी पर भी तीन साल के लिए किसी भी लिस्टेड कंपनी को ऑडिट सर्टिफिकेट जारी करने पर बैन लगा दिया है। ये दोनों चार्टेड अकाउंटेंट घोटाला सामने आने के बाद सत्यम का ऑडिट करने के लिए जिम्मेदार थे।

Related Post

Leave a Comments

Name

Email

Contact No.